Wo Thaka Hua Meri Baahon Me Shayari has Written by Bashir Badr.



Wo Thaka Hua Meri Baahon Me


Wo thaka hua meri baahon me so gaya to kya hua
Abhi maine dekha hai chaand bhi kisi shaakh-e-gul pe jhuka hua

Jise le gayi hai abhi hawa wo warak tha dil ki kitaab ka
Kahin aansuon se mita hua kahin aansuon se likha hua

Kayi meel ret ko kaat kar koi mauj phool khila gayi
Koi ped pyaas se mar raha hai nadi ke paas khada hua

Mujhe haadson ne saza saza ke bahut haseen bana diya
Mera dil bhi jaise dulhan ka haath ho mehandiyon se racha hua

Wahi khat ke jis pe jagah jagah do mahkte honthon ke chaand the
Kisi bhule bisare se taak par tah-e-gard daba hua

Wahi shahar hai wahi raaste wahi ghar hai aur wahi laan bhi
Magar us dareeche se poochhna wo darkht anaar ka kya hau

Mere saath jugnoo hai humsafar magar is shrr ki bisaat kya
Ye charaag koi charaag hai na jala hua na bhujha hua


वो थका हुआ मेरी बाहों में ज़रा सो गया था तो क्या हुआ
अभी मैं ने देखा है चाँद भी किसी शाख़-ए-गुल पे झुका हुआ

जिसे ले गई है अभी हवा वो वरक़ था दिल की किताब का
कहीं आँसुओं से मिटा हुआ कहीं आँसुओं से लिखा हुआ

कई मील रेत को काट कर कोई मौज फूल खिला गई
कोई पेड़ प्यास से मर रहा है नदी के पास खड़ा हुआ

मुझे हादसों ने सजा सजा के बहुत हसीन बना दिया
मेरा दिल भी जैसे दुल्हन का हाथ हो मेहन्दियों से रचा हुआ

वही ख़त के जिस पे जगह जगह दो महकते होंठों के चाँद थे
किसी भूले-बिसरे से ताक़ पर तह-ए-गर्द होगा दबा हुआ

वही शहर है वही रास्ते वही घर है और वही लान भी
मगर उस दरीचे से पूछना वो दरख़त अनार का क्या हुआ

मेरे साथ जुगनू है हमसफ़र मगर इस शरर की बिसात क्या
ये चराग़ कोई चराग़ है न जला हुआ न बुझा हुआ


Written By:
Bashir Badr