कब से नहीं मिला | रात और दिन का फासला हूँ मैं



This Beautiful Poetry 'Kab Se Nahi Mila' recited by Dr. Kumar Vishwas and also written by him.





कब से नहीं मिला | Kab Se Nahi Mila

रात और दिन का फासला हूँ मैं
ख़ुद से कब से नहीं मिला हूँ मैं

ख़ुद भी शामिल नहीं सफ़र में, पर
लोग कहते हैं काफिला हूँ मैं

ऐ मुहब्बत! तेरी अदालत में
एक शिकवा हूँ, एक गिला हूँ मैं

मिलते रहिए, कि मिलते रहने से
मिलते रहने का सिलसिला हूँ मैं

रात और दिन का फासला हूँ मैं
ख़ुद से कब से नहीं मिला हूँ मैं 


Raat aur din ka faasla hoon main 
Khud se kab se nahin mila hoon main 

Khud bhi shaamil nahin safar mein, par 
Log kahte hain kaafila hoon main 

Ae mohabbat! teri adaalat mein 
Ek shiqwa hoon, ek gila hoon main 

Milte rahiye, ki milte rahne se 
Milte rahne ka silsila hoon main

Raat aur din ka faasla hoon main 
Khud se kab se nahin mila hoon main 


Written By:
Dr Kumar Vishwas



Kab Se Nahi Mila Poetry Video