A new and beautiful Shayari 'Bharosa' written by Gurnazar Chattha and Charlie Chauhan, and performed also in this shayari video which make more catchy this shayari. This shayari is presented by Gurnazar Chattha official label.


Bharosa:- A new and beautiful Shayari 'Bharosa' written by Gurnazar Chattha and Charlie Chauhan, and performed also in this shayari video which make more catchy this shayari. This shayari is presented by Gurnazar Chattha official label.

Bharosa (Shayari)

Ab wo kisi aur ki hai 
Aur usko jaan bulati hai 
Humare sath ghuzaara waqt 
Sabko nuksan bataati hai 
Gham sirf ik baat ka hai 
Ki wo nuksan usne, bahut asaani se bhula diya 
Humne toh ishq se bharosa hi utha diya Humne toh ishq se bharosa hi utha diya 

Usne itna mujhe rula diya 
Woh jise kehte hai naa jahannum 
Zameen pe hi dikha diya 
Humne bhi ishq se bharosa hi utha diya

Kareeb aaya wo yoon 
Mujhe mujhse chura liya 
Aur jab kho chuki thi main khud ko 
Usne hath chhuda liya 
Humne bhi ishq se bharosa utha diya 
Humne bhi ishq se bharosa utha diya 

Baaton baaton mein 
Le jaati thi mujhe chand par 
Baaton baaton mein 
Le jaati thi mujhe chand par 
Phir? Phir kya, mujhe chand se hi gira diya
Humne toh ishq se bharosa hi utha diya
Humne toh ishq se bharosa hi utha diya
Bharosa hi utha diya..


अब वो किसी और की है 
और उसको जान बुलाती है 
हमारे साथ गुजारा वक़्त 
सबको नुकसान बताती है 
ग़म सिर्फ इक बात का है 
कि वो नुकसान उसने, बहुत आसानी से भुला दिया
हमनें तो इश्क़ से भरोसा ही उठा दिया
हमनें तो इश्क़ से भरोसा ही उठा दिया

उसने इतना मुझे रुला दिया 
वो जिसे कहते है ना जहन्नुम 
ज़मीं पे ही दिखा दिया 
हमने भी इश्क़ से भरोसा ही उठा दिया

करीब आया वो यूँ 
मुझे मुझसे चुरा लिया 
और जब खो चुकी थी मैं खुद को 
उसने हाथ छुड़ा लिया
हमने भी इश्क़ से भरोसा ही उठा दिया
हमने भी इश्क़ से भरोसा ही उठा दिया

बातों बातों में, ले जाती थी मुझे चाँद पर 
बातों बातों में, ले जाती थी मुझे चाँद पर 
फिर? फिर क्या, मुझे चाँद से ही गिरा दिया
हमनें तो इश्क़ से भरोसा ही उठा दिया
हमनें तो इश्क़ से भरोसा ही उठा दिया
भरोसा ही उठा दिया...


BHAROSA SHAYARI