Tum Apna Kehti Thi Poetry | Kumar Vishwas


This beautiful poetry 'Tum Apna Kehti Thi' is written by the famous young poet Dr. Kumar Vishwas.

Tum Apna Kehti Thi 

(तुम अपना कहती थी)


Haar gaya tan-man pukaar kar tumhe
Kitne ekaaki hain pyaar kar tumhe

Jis pal haldi lepi hogi tan par maa ne
Jis pal sakhiyon ne saupi hongi saugaaten
Dholak ki thaapon mein, ghungharoo ki roonjhun mein
Ghul kar faili hongi ghar mein pyaari baate

Us pal mithi-si dhun
Ghar ke aangan mein sun
Roye man-chaisar par haar kar tumhe
Kitne ekaaki hain pyaar kar tumhe

Kal tak jo humko-tumko milwa deti thi
Un sakhiyon ke prashnon ne toka to hoga
Saajan ki anjuri par, anjuri kaanpi hogi
Meri sudhiyon ne rasta roka to hoga

Us pal socha mann mein
Aage ab jeevan mein
Ji lenge hanskar, bisaar kar tumhe
Kitne ekaaki hain pyaar kar tumhe

Kal tak mere jin geeton ko tum apna kahti thi
Akhbaaron me padhkar kaisa lagta hoga
Saawan ko raaton mein, saajan ki baanhon mein
Tan to sota hoga par man jagta hoga

Us pal ke jeene mein
Aansoo pi lene mein
Marte hain, mann hi mann, maar kar tumhe
Kitne ekaaki hain pyaar kar tumhe

Haar gaya tan-man pukaar kar tumhe
Kitne ekaaki hain pyaar kar tumhe


हार गया तन-मन पुकार कर तुम्हें
कितने एकाकी हैं प्यार कर तुम्हें

जिस पल हल्दी लेपी होगी तन पर माँ ने
जिस पल सखियों ने सौंपी होंगीं सौगातें
ढोलक की थापों में, घुँघरू की रुनझुन में
घुल कर फैली होंगीं घर में प्यारी बातें

उस पल मीठी-सी धुन
घर के आँगन में सुन
रोये मन-चैसर पर हार कर तुम्हें
कितने एकाकी हैं प्यार कर तुम्हें

कल तक जो हमको-तुमको मिलवा देती थीं
उन सखियों के प्रश्नों ने टोका तो होगा
साजन की अंजुरि पर, अंजुरि काँपी होगी
मेरी सुधियों ने रस्ता रोका तो होगा

उस पल सोचा मन में
आगे अब जीवन में
जी लेंगे हँसकर, बिसार कर तुम्हें
कितने एकाकी हैं प्यार कर तुम्हें

कल तक मेरे जिन गीतों को तुम अपना कहती थीं
अख़बारों मेें पढ़कर कैसा लगता होगा
सावन की रातों में, साजन की बाँहों में
तन तो सोता होगा पर मन जगता होगा

उस पल के जीने में
आँसू पी लेने में
मरते हैं, मन ही मन, मार कर तुम्हें
कितने एकाकी हैं प्यार कर तुम्हें

हार गया तन-मन पुकार कर तुम्हें
कितने एकाकी हैं प्यार कर तुम्हें

                                      – Kumar Vishwas