A well known young poet Jai Ojha bring a another beautiful poetry which is titled 'Talaash' written and performed by him. In this poetry poet Jai Ojha described the ways and feelings of whole journey of a man who search for his beloved.

About This Poetry :-   A well known young poet Jai Ojha bring a another beautiful poetry which is titled 'Talaash' written and performed by him. In this poetry poet Jai Ojha described the ways and feelings of whole journey of a man who search for his beloved.


Talaash By Jai Ojha

सब कुछ मिला तेरे जाने के बाद
पर खलती रही जो दिल में कहीं
बस उस एक कमी को ढूंढता हूं
खुद को भूल कर मैं खुद ही को ढूंढता हूं
मौत के कगार पर जिंदगी को ढूंढता हूं
मैं जानता हूं जा चुकी तुम
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं

यूँ रास्ते में नज़्में ग़ज़ले कविताएँ बहुत मिली है मुझे
पर मैं भी कमाल हूँ कि बस उस अधूरी शायरी को ढूँढ़ता हूँ
मैं जानता हूं जा चुकी तुम
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं

अपने भीतर दिल में कहीं एक बवाल लिए मैं चल रहा हूं।
आखिर क्या वजह रही तेरे जाने की ये अजीब सवाल लिए मैं चल रहा हूं
हां ब्लॉक हूं मैं तेरी जिंदगी में हर जगह से
पर यकीन मान की हर शब में बस उस एक
आईडी को ढूंढता हूं
मैं जानता हूं जा चुकी तुम
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं

चल रहा हूं बस तलाश में नहीं जानता कहां हो तुम
कुर्बान थी जो मुझ पर कभी
अब क्या किसी गैर पर फना हो तुम
वो आंसू भी अब सुख गए जो बहे थे तेरे हिज्र में
पर ना जाने क्यों मैं अपने गाल पर उस नमी को ढूंढता हूं
मैं जानता हूं जा चुकी तुम
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं

तलाश है मुझे तेरी मगर खुद को ही मैं पा रहा हूं तेरी गली को छोड़ कर उसकी गली में जा रहा हूं  फकत जिंदा रहूं इतना मुझे अब काफी नहीं
बस इसीलिए मैं इस दिल में छुपी उस जिंदादिली को ढूंढता हूं
मैं जानता हूं जा चुकी तुम
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं

राही हूं, मैं रास्ता हूं, मंजिल भी शायद मैं ही हूं दरिया हूं मैं बहता हुआ, साहिल भी शायद मैं ही हूं
जमाने का प्यार खोखला है सच कहूं
बस इसीलिए मैं आंखों में किसी शख्स के इश्क सूफी ढूंढता हूं
मैं जानता हूं जा चुकी तुम
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं

यूँ रास्ते में नज़्में ग़ज़ले कविताएँ बहुत मिली है मुझे
पर मैं भी कमाल हूँ कि बस उस अधूरी शायरी को ढूँढ़ता हूँ
मैं जानता हूं जा चुकी तुम
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं
आज भी हर शहर में बस तुम ही को ढूंढता हूं

दश्त में कहीं ढूंढ रहा है हिरण अपनी कस्तूरी को
कितना मुश्किल है तय करना खुद से खुद की दूरी को

                                      – जय ओझा


Sab kuch mila tere jaane ke baad
Par khalti rahi jo dil mein kahin
Bas us ek kami ko dhoondhta hoon
Khud ko bhool kar main khud hi ko dhoondhta hoon
Maut ke kagaar par zindagi ko dhoondhta hoon
Main jaanta hoon ja chuki tum
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon

Yoon raaste mein nazmein ghazale kavitaaye bahut mili hai mujhe
Par main bhi kamaal hoon ki bas us adhoori shayari ko dhoondhta hoon
Main jaanta hoon ja chuki tum
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon

Apne bheetar dil mein kahin ek bawaal liye main chal raha hoon
Aakhir kya wajah rahi tere jaane ki ye ajeeb sawaal liye main chal raha hoon
Haan block hoon main teri zindagi mein har jagah se
Par yakin maan ki har shab mein bas us ek
ID ko dhoondhta hoon
Main jaanta hoon ja chuki tum
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon

Chal raha hoon bas talaash mein nahin jaanta kahan ho tum
Kurbaan thi jo mujh par kabhi
Ab kya kisi gair par fanaa ho tum
Wo aansoo bhi ab sukh gaye jo bahe the tere hijr mein
Par na jaane kyon main apne gaal par us nami ko dhoondhta hoon
Main jaanta hoon ja chuki tum
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon

Talaash hai mujhe teri magar khud ko hi main pa raha hoon teri gali ko chhod kar uski gali mein ja raha hoon
Faqat zinda rahoon itna mujhe ab kaafi nahin
Bas isiliye main is dil mein chhupi us zindaadili ko dhoondhta hoon
Main jaanta hoon ja chuki tum
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon

Raahi hoon, main raasta hoon, manjil bhi shayad main hi hoon
Dariya hoon main bahata hua, saahil bhi shayad main hi hoon
Zamaane ka pyaar khokhla hai sach kahoon
Bas isiliye main aankhon mein kisi shakhs ke ishq soofi dhoondhta hoon
Main jaanta hoon ja chuki tum
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon

Yoon raaste mein nazmein ghazale kavitaaye bahut mili hai mujhe
Par main bhi kamaal hoon ki bas us adhoori shayari ko dhoondhta hoon
Main jaanta hoon ja chuki tum
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon
Aaj bhi har shahar mein bas tum hi ko dhoondhta hoon

Dasht mein kahin dhoondh raha hai hiran apni kastoori ko
Kitna mushkil hai tay karna khud se khud ki doori ko

                                  – Jai Ojha