Main Tumse Pyar Karta Tha Poetry Poem Image By Manoj Muntashir

Main Tumse Pyar Karta Hoon Poem


वो मेरा चांद सौ टुकड़ों में टूटा, 
जिसे मैं देखता था आख भर के 
जहां पर लाल हो जाते हैं आसूं , 
मैं लौटा हूं उसी हद से गुजर के
मुझे मालूम है शामें तुम्हारी किसी के नाम लिखी जा चुकी हैं 
मगर मैं क्या करूं, 
कि मेरी घड़ियां तुम्हारे वक़्त पे अब तक रूकी हुई हैं
मेरी हो तुम ये कोई नहीं कहेगा 
मगर ये सच तो फिर भी सच रहेगा 
मैं तुमसे प्यार करता था 
मैं तुमसे प्यार करता हूं
यह कैसा राबता है मेरा तुमसे 
तुम्हें खोने से डरता था
तुम्हें खोने से डरता हूं
मैं तुमसे प्यार करता था 
मैं तुमसे प्यार करता हूं 

जहर बरसा है क्या नींदों पे मेरी 
या मेरी आंखों में नश्तर गड़े हैं 
वजह क्या है? कोई समझाए मुझको 
ये मेरे ख्वाब क्यों नीले पड़े है 
तसल्ली अपनी अपने पास रखो
मुझे ये दर्द की रातें है प्यारी 
ये मेरा इश्क है मेरा रहेगा 
जरूरत ही नहीं मुझको तुम्हारी 
खलिश अब तक मेरे दिल में दबी है 
मुझे जो कल थी, वो ज़िद्द आज भी है 
मैं तुमसे प्यार करता था
मैं तुमसे प्यार करता हूं
तुम्हारी खैरियत के वास्ते मैं
दुआएं तब भी पढ़ता था, 
दुआएं अब भी पढ़ता हूं
मैं तुमसे प्यार करता था
मैं तुमसे प्यार करता हूं 

भटकती रह गई एक रात मेरी 
तुम्हारे बाजूओ में सो ना पायी   
बहुत कुछ होता है दुनिया में लेकिन 
यही एक चीज थी जो हो ना पायी 
हवा में घर बनाया था कभी जो 
उसी के सामने बेबस पड़ा हूं
तुम्हारे बिन दरीचा कौन खोलें?
कई जन्मों से मैं बाहर खड़ा हूं
ये दिल जो पन्ना-पन्ना फट चुका है 
कभी पढ़ना की इस पर क्या लिखा है 
मैं तुमसे प्यार करता था 
मैं तुमसे प्यार करता हूं
जो जीते जी ना मेरा नाम लेंगे
उन्हीं होंठो पे मरता था
उन्हीं होंठो पे मरता हूं
मैं तुमसे प्यार करता था 
मैं तुमसे प्यार करता हूं

                            – मनोज मुंतशिर


Wo mera chaand sau tukdon mein toota,
Jise main dekhta tha aakh bhar ke
Jahaan par laal ho jaate hain aasoon ,
Main lauta hoon usi hadd se gujar ke
Mujhe maaloom hai shaamein tumhaari kisi ke naam likhi ja chuki hain
Magar main kya karoon,
Ki meri ghadiyaan tumhaare waqt pe ab tak rooki hui hain
Meri ho tum ye koi nahin kahega
Magar ye sach to phir bhi sach rahega
Main tumse pyaar karta tha
Main tumse pyaar karta hoon
Yah kaisa raabta hai mera tumse
Tumhen khone se darta tha
Tumhen khone se darta hoon
Main tumse pyaar karta tha
Main tumse pyaar karta hoon

Zahar barsa hai kya nindon pe meri
Ya meri aankhon mein nashtar gade hain
Wajah kya hai? Koi samajhaye mujhko
Ye mere khwaab kyon neele pade hai
Tasalli apni apne paas rakho
Mujhe ye dard ki raatein hai pyaari
Ye mera ishq hai mera rahega
Jaroorat hi nahin mujhko tumhaari
Khalish ab tak mere dil mein dabi hai
Mujhe jo kal thi, wo zidd aaj bhi hai
Main tumse pyaar karta tha
Main tumse pyaar karta hoon
Tumhaari khairiyat ke vaaste main
Duaaen tab bhi padhta tha,
Duaaen ab bhi padhta hoon
Main tumse pyaar karta tha
Main tumse pyaar karta hoon

Bhatakti rah gayi ek raat meri
Tumhaare baajuo mein so na paayi 
Bahut kuchh hota hai duniya mein lekin
Yahi ek cheez thi jo ho na paayi
Hawa mein ghar banaaya tha kabhi jo
Usi ke saamne bebas pada hoon
Tumhaare bin dareecha kaun kholen?
Kayi janmon se main baahar khada hoon
Ye dil jo panna-panna fatt chuka hai
Kabhi padhna ki is par kya likha hai
Main tumse pyaar karta tha
Main tumse pyaar karta hoon
Jo jeete ji na mera naam lenge
Unhin hontho pe marta tha
Unhin hontho pe marta hoon
Main tumse pyaar karta tha
Main tumse pyaar karta hoon

                             – Manoj Muntashir



वो मेरा चांद सौ टुकड़ों में टूटा

Wo Mera Chand Sau Tukdo Mein Toota