Tum Hume Kya Doge Lyrics :- Well known famous lyricist Manoj Muntashir comes again with a beautiful lines which is titled Tum Hume Kya Doge which is very perfectly describe the panic situation of all indian labours who getaway from cities and want to go their home whereas not any resources available expect walking during this lockdown. So lyricist Manoj Muntashir make his poetry to labours voice and show their panic situation which we never feel.

Tum Hume Kya Doge Lyrics :- Well known famous lyricist Manoj Muntashir comes again with a beautiful lines which is titled Tum Hume Kya Doge which is very perfectly describe the panic situation of all indian labours who getaway from cities and want to go their home whereas not any resources available expect walking during this lockdown. So lyricist Manoj Muntashir make his poetry to labours voice and show their panic situation which we never feel.


Tum Hume Kya Doge Poetry (In Hindi)

मजदूर हैं हम 
और मानते हैं कि तुमसे थोड़ा अलग है 
तुम्हारे जिस्म लहू और हड्डियों से बने हैं 
हमारे सीमेंट और गिट्टियों से, 
तुम मां की कोख से जन्म लेते हो
हम कारखाने की भट्ठियों से,
हम खदानों का कोयला है 
तुम तिजोरी का सोना 
तुम्हें पूरी दुनिया चाहिए
हमें सिर्फ एक कोना 
बहुत मुश्किल है 
तुम्हारा और हमारा एक साथ होना

ये बराबरी का दौर है
यहां किसी को छोटा कहते अच्छा नहीं लगता
पर तुम्हें कहे भी तो क्या कहें? 
तुम बेचारे महंगे मर्तबानो के मारे 
अपनी प्यास के लिए मिट्टी के प्याले नहीं कमा पाए
जिंदगी भर दौड़ते रहे और हमारी तरह पैरों के छाले नहीं कमा पाए 
स्क्वैर-फिट्स के बाशिंदों कभी जमीन बिछाकर सोए हो क्या? 
ब्रेक्सिट पर आंसू बहाने वालों कभी भरत मिलाप देख कर रोए हो क्या? 
तुम्हारे जख्म मरहमों के मोहताज हैं 
और हमें चोट लग जाए तो धूप के फरिश्ते आकर अपनी उंगलियों का सेक देते हैं
तुम्हारे पास दुखों के वो हीरे कहां?
जो हमारे बच्चे खेल के फेक देते हैं

तुम जुगनूओं के जागीरदार 
हम तड़पता हुआ आफ़ताब हैं 
तुम नक्शों पे खींची तंग दिल हकीकत 
हम नई दुनिया का दरिया दिल ख़्वाब है
तुम सिर्फ जिंदाबाद हो, 
हम इंकलाब हैं 
यानी तुम बहुत मामूली हो, 
हम बहुत नायाब हैं 

इसलिए आज हम अपनी गलती कुबूल करते हैं
हमने मांगने से पहले देने वाले का बौनापन नहीं देखा 
हमारी मेहनतों का कद तुम्हारी इमारतों से बड़ा है
तुम हमें क्या दोगे? 
तुम्हारी एक-एक ईंट पे हमारे पसीने का उधार चढ़ा है
तुम हमें क्या दोगे? 
21वीं सदी में महाशक्ति बनने का तुम्हारा सपना, हमारे पैरों पर खड़ा है
तुम हमें क्या दोगे? 
हम देते हैं तुम्हे, ये वचन की आज तुम्हें छोड़कर जा रहे हैं 
पर वापस लौट के आएंगे,
तुम्हारी ये कायनात जो उजड़ गई है, 
इसे फिर बसाएगे 
जिंदगी का मलबा देखकर आंसू मत बहाओ, 
हम ईश्वर के हाथ हैं 
तुम्हारे लिए एक नई दुनिया बनाएंगे।

                                          – मनोज मुंतशिर

Tum Hume Kya Doge

Majdoor hain hum 
Aur maante hain ki tumse thoda alag hai 
Tumhaare jism lahoo aur haddiyon se bane hain 
Humaare cement aur gittiyon se, 
Tum maa ki kokh se janm lete ho
Hum kaarkhaane ki bhatthiyon se,
Hum khadaanon ka koyala hai 
Tum tijori ka sona 
Tumhe poori duniya chaahiye
Hume sirf ek kona 
Bahut mushkil hai 
Tumhaara aur humaara ek saath hona

Ye baraabari ka daur hai
Yahaan kisi ko chhota kahte achchha nahin lagta
Par tumhe kahe bhi to kya kahe? 
Tum bechaare mahnge martbaano ke maare 
Apni pyaas ke liye mitti ke pyaale nahin kama paye
Zindagi bhar daudte rahe 
Aur humaari tarah pairon ke chhaale nahin kama paye 
Square-Feets ke baashindon kabhi zameen bichhaakar soye ho kya? 
Brexit par aansoo bahaane waalon kabhi bhart milaap dekh kar roye ho kya? 
Tumhaare jakhm marhamon ke mohtaaj hain 
Aur hume chot lag jaye toh dhoop ke farishte aakar apni ungaliyon ka sek dete hain
Tumhaare paas dukhon ke wo heere kahaan?
Jo humaare bachche khel ke fek dete hain

Tum jugnooaon ke jaageerdaar 
Hum tadapta hua aaftaab hain 
Tum nakshon pe kheenchi tang dil haqeeqat 
Ham nai duniya ka dariya dil khwaab hai
Tum sirf jindaabaad ho, 
Hum inkalaab hain 
Yaani tum bahut maamooli ho, 
Hum bahut naayaab hain 

Isaliye aaj hum apni galti kubool karte hain
Humne maangne se pahle dene waale ka baunaapan nahin dekha 
Humaari mehnaton ka kad tumhaari imaaraton se bada hai

Tum hume kya doge? 
Tumhaari ek-ek int pe humaare paseene ka udhaar chadha hai
Tum hume kya doge? 
Ikkiswi sadi mein mahashakti banne ka tumhaara sapna, 
Humaare pairon par khada hai
Tum hume kya doge? 
Hum dete hain tumhe, ye vachan ki aaj tumhe chhodkar ja rahe hain 
Par waapas laut ke aaenge,
Tumhaari ye kaaynaat jo ujad gayi hai, 
Ise phir basayege 
Zindagi ka malba dekhkar aansoo mat bahao, 
Hum ishwar ke haath hain, 
Tumhaare liye ek nayi duniya banayenge.

                                – Manoj Muntashir


Tum Hume Kya Doge Video