'Kya Tumhein Pata Hai' which is written and performed by famous young poetess Sainee Raj. Sainee Raj shooted this poetry video from her home and shared her memories during this lockdown. This poetry 'Kya Tumhein Pata Hai'  video released under label of UnErase Poetry.

About This Poetry :-  A beautiful poetry 'Kya Tumhein Pata Hai' which is written and performed by famous young poetess Sainee Raj. Sainee Raj shooted this poetry video from her home and shared her memories during this lockdown. This poetry 'Kya Tumhein Pata Hai'  video released under label of UnErase Poetry.


Kya Tumhein Pata Hain ( In Hindi)

क्या तुम्हें पता है टूटते तारे 
टूट कर कहां जाते होंगे? 
धूप रात में कहां सोती होगी? 
क्या पंछियों को भी अपने घरवालों की याद आती होगी? 
नदी बहकर समंदर से मिलती है 
समंदर किससे मिलता होगा? 
क्या तुम्हें पता है टूटते तारे, तारे भी नहीं कहलाते 
मिट्टी गिरती है आसमान से बस 
पर मिट्टी से ही पेड़ उगते है
क्या तुम्हें पता है पेड़ों की जड़ें इतना कस कर जमीन से क्यों लिपटती है? 
क्या उन्हें भी किसी के साथ होने का एहसास भाता होगा? 
क्या इसलिए हम कस कर अपनी यादों को पकड़े बैठे हैं 
कि एक दिन उन पर भी फूल खिल आए 
क्या तुम्हें पता है पेड़ों पर आशिक अपना नाम क्यों लिख जाते हैं? 
संग जीने मरने की कसमें जब खो जाते होंगे 
तो कहां जाकर सिसकियां लेते होंगे? 
आदतें भी कभी ना कभी छूट जाती होंगी
ऐसे में कलमकार पेड़ों पर क्या लिख जाते होंगे? क्या तुम्हें पता है उन पेड़ों पर कविताएं खिलती है।

                                                – सैनी राज

Kya Tumhein Pata Hain

Kya tumhein pata hai toot'te taare 
Toot kar kahaan jaate honge? 
Dhoop raat mein kahaan soti hogi? 
Kya panchhiyon ko bhi apne gharwaalon ki yaad aati hogi? 
Nadi behkar samandar se milti hai 
Samandar kis'se milta hoga? 
Kya tumhein pata hai toot'te taare, taare bhi nahin kehlaate 
Mitti girti hai aasmaan se bas 
Par mitti se hi ped ugte hain
Kya tumhein pata hai pedon ki jadein itna kas kar zameen se kyon lipat'ti hai? 
Kya unhein bhi kisi ke saath hone ka ehsaas bhaata hoga? 
Kya isliye hum kas kar apni yaadon ko pakde baithe hain 
Ki ek din un par bhi phool khil aaye 
Kya tumhein pata hai pedon par aashiq apna naam kyon likh jaate hain? 
Sang jeene marne ki kasamein jab kho jaate honge 
Toh kahaan jaakar siskiyaan lete honge? 
Aadatein bhi kabhi naa kabhi chhoot jaati hongi
Aise mein kalamkaar pedon par kya likh jaate honge? 
Kya tumhen pata hai un pedon par kavitaayen khilti hai.

                                             – Sainee Raj