This beautiful poem 'Geet Ga Na Paunga' is written by the famous young poet Dr. Kumar Vishwas.

This beautiful poem 'Geet Ga Na Paunga' is written by the famous young poet Dr. Kumar Vishwas.

Geet Ga Na Paunga

तुम अगर नहीं आयीं, गीत गा ना पाऊँगा
साँस साथ छोडेगी, सुर सजा ना पाऊँगा

तान भावना की है, शब्द-शब्द दर्पण है,
बाँसुरी चली आओ, होट का निमन्त्रण है

तुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी है,
तीर पार कान्हा से दूर राधिका सी है

दूरियाँ समझती हैं दर्द कैसे सहना है?
आँख लाख चाहे पर होठ को ना कहना है

औषधी चली आओ, चोट का निमन्त्रण है,
बाँसुरी चली आओ होठ का निमन्त्रण है

तुम अलग हुयीं मुझसे साँस की खताओं से,
भूख की दलीलों से, वक़्त की सजाओं ने

रात की उदासी को, आँसुओं ने झेला है,
कुछ गलत ना कर बैठे, मन बहुत अकेला है

कंचनी कसौटी को खोट ना निमन्त्रण है
बाँसुरी चली आओ होठ का निमन्त्रण है

                                        – कुमार विश्वास


Geet Ga Na Paunga (In Hindi)

Tum agar nahi aayi, geet ga na paunga
Saans saath chhodegi, sur saja na paunga

Taan bhawna ki hai, shabd shabd darpan hai
Baansuri chali aao honth ka nimantran hai

Tum bina hatheli ki har lakeer pyaasi hai
Teer paar kanha se door radhika si hai

Dooriyan samjhati hain, dard kaise sahna hai
Aankh lakh chaahe par honth ko na kahna hai

Aushadi chali aao chot ka nimantran hai
Baansuri chali aao honth ka nimantran hai

Tum alag hui mujhse, saans ki khataaon se
Khud ki daleelon se , waqt ki sajaaon se

Raat ki udaasi ko, aansuon ne jhela hai
Kuch galat na kar baithe, mann bahut akela hai

Kanchani kasauti ko , khot ka nimantran hai
Baansuri chali aao honth ka nimantran hai

                                            – Kumar Vishwas


Tum Agar Nahi Aayi, Geet Ga Na Paunga



तुम अगर नहीं आयीं, गीत गा ना पाऊँगा कुमार विश्वास