This beautiful poem is a dedication to every man who works in the interest of the country. This poem ‘Main Khaki Hoon’ was written by IPS officer Sukriti Madhav ji.

About This Poetry :- This beautiful poem is a dedication to every man who works in the interest of the country. This poem ‘Main Khaki Hoon’ was written by IPS officer Sukriti Madhav ji.


'Main Khaki Hoon' Poem

Din hoon, raat hoon,
Saanjh waali baati hoon,
Main khaki hoon
Aandhi mein, toofaan mein,
Holi mein, ramjaan mein,
Desh ke sammaan mein,
Adig kartavyon ki,
Avichal paripaati hoon,
Main khaki hoon
Taiyaar hoon main hamesha hi,
Tez dhoop aur baarish,
Hans ke sah jaane ko,
Saare tyohaar sadakon pe,
‘Bhid’ ke saath ‘manaane’ ko,
Patthar aur goli bhi khaane ko,
Main bani ek dooji maati hoon,
Main khaki hoon
Vighn vikat sab sah kar bhi,
Sushobhit sajjit bhaati hoon,
Muskaati hoon, ithlaati hoon,
Wardi ka gaurav paati hoon,
Main khaki hoon
Tam mein prakaash hoon,
Kathin waqt ki aas hoon,
Har waqt tumhaare paas hoon,
Bulaao, main daudi aati hoon,
Main khaki hoon.
Bhookh aur thakaan
Ki baat hi kya,
Kabhi aahat hoon,
Kabhi chotil hoon,
Aur kabhi tirange mein lipti,
Roti sisakti chhaati hoon,
Main khaki hoon
Shabd kah paaya kuchh hi,
Aatmkatha main baaki hoon,
Main khaki hoon

                               – Sukriti Madhav


'मैं खाकी हूँ' कविता

दिन हूँ, रात हूँ,
सांझ वाली बाती हूं,
मैं खाकी हूँ
आंधी में, तूफ़ान में,
होली में, रमजान में,
देश के सम्मान में,
अडिग कर्तव्यों की,
अविचल परिपाटी हूँ,
मैं खाकी हूँ
तैयार हूँ मैं हमेशा ही,
तेज धूप और बारिश,
हँस के सह जाने को,
सारे त्योहार सड़कों पे,
‘भीड़’ के साथ ‘मनाने’ को,
पत्थर और गोली भी खाने को,
मैं बनी एक दूजी माटी हूँ,
मैं खाकी हूँ
विघ्न विकट सब सह कर भी,
सुशोभित सज्जित भाती हूँ,
मुस्काती हूँ, इठलाती हूँ,
वर्दी का गौरव पाती हूँ,
मैं खाकी हूँ
तम में प्रकाश हूँ,
कठिन वक़्त की आस हूँ,
हर वक़्त तुम्हारे पास हूँ,
बुलाओ, मैं दौड़ी आती हूँ,
मैं खाकी हूँ।
भूख और थकान
की बात ही क्या,
कभी आहत हूँ,
कभी चोटिल हूँ,
और कभी तिरंगे में लिपटी,
रोती सिसकती छाती हूँ,
मैं खाकी हूँ
शब्द कह पाया कुछ ही,
आत्मकथा मैं बाकी हूँ,
मैं खाकी हूँ

                           – सुकीर्ति माधव

Main Khaki Hoon Poem Video