About This Poetry :- This Beautiful Love Poetry 'Main Aaj Bhi Tumhaare Baare Mein Likh Raha Hu' which is written and performed by Yahya Bootwala and Published this poetry in his own YouTube channel Yahya Bootwala Official.

About This Poetry :- This Beautiful Love Poetry 'Main Aaj Bhi Tumhare Baare Mein Likh Raha Hu' which is written and performed by Yahya Bootwala and Published this poetry in his own YouTube channel Yahya Bootwala Official.


Main Aaj Bhi Tumhare Baare Mein Likh Raha Hu


Main aaj bhi tumhare baare mein likh raha hu
Tumhara chehra kisi ghazal sa hai
Jab tum palke oonchi karti ho to
Wo kisi mukammal sher se lagte hain
Aur honth makte ki tarah jis pe haq sirf shayar ka hai
Main wahi shayar banna chaahta hoon
Par tumhari taareef mein isse jyada likh nahin paata
Ki jharne bhi pyaase ho jaate hain jab tum apani bheegi julfen jhatakti ho
Tumhari naak ki banawat pe bhagawanon mein aaj bhi ek misaal kaayam hai
Behek jaate wo hawa bhi jo tumhari ungaliyon ke beech se hokar gujarti hai
Mere dil ki dhadkan ki agar koi aawaaz hoti to bilkul tumhare jhumke ke khanak ki tarah sunaai deti
Aur tumhari aankhen..Tumhari aankhon mein ek brahmaand basa hai
Jiska main ek chhota hissa banna chaahta hoon
 Ek sitaara hi sahi jiski roshani uske jaane ke baad bhi tumhari jehniyat mein rahen
Mujhe taareekhe yaad nahin rahti par tumhari saari harkaten yaad hai
Jaise saz sawarkar jab tum aaine ke saamne khadi ho jaati thi
To khud ko dekhne ke bahaane meri taraf dekha karti thi
Ek taareekh ki ummeed mein, jo main nahin karta tha
Phir tum palat kar mujhse kahti ki kaisi dikh rahi hoon main
To main kahta 'bahut sundar'
To ye bina poochhe nahin bata sakte the tum?
Kyon bataata sundar to tumhen sab keh dete par jis bholepan se tum wo sawaal mujhse poochhti ho?
Wo har kisi ke naseeb mein nahin aata
Jab tum naaraaz ho ke kisi kone mein baith jaaya karti thi
To main jaanboojh kar bewkoofi waali harkaten karta tha
Jiski wajah se tumhare hothon par ek aadhe chaand ki misl ek muskaan aa jaati thi
Aur mere dil mein eid ban jaati thi
Tum har cheez sambhaal ke rakha karti thi
Wo movie ke tickete jo hamane saath dekhi thi
Phir wo taufe jo maine tumhen diye the
Shayad mera ekaak do kameez bhi rakh deti agar dabba bada hota toh
Par main kuchh sambhaal kar nahin rakh paaya
Na cheejon ko, na tumhen
Par maine tumhen poora ka poora khud mein samet kar rakha hai
Apne mann mutaabik tumhare saath ji leta hoon phir se
Tumhare bachpane par aaj bhi hans deta hoon
Tumhari kahaaniyon ko utne hi pyaar se sunta hoon
Haan tumhaare kuchh faisale jin pe aaj bhi naaraaz baitha hoon
Aur kabhi kabaar tumhari god mein so leta hoon
Isi bahaane neend aa jaati hai
Main aaj bhi sochta ki kaash, kaash hamaari lakeeron ko baandh paata to hum uski gaanth par humaara ghar bana lete
Par jab humane koshish ki to beech mein 1 inch ka faasla rah gaya
 Jo humaari galatfahmi, galat faislon ka tha
Us faasle ko bharne mein ek zindagi nikal jayegi
Khair.. Main aaj bhi tumhare baare mein likh raha hu.


(In Hindi)
मैं आज भी तुम्हारे बारे में लिख रहा हूं
तुम्हारा चेहरा किसी गज़ल सा है
जब तुम पलके ऊंची करती हो तो
वो किसी मुकम्मल शेर से लगते हैं
और होंठ मक्ते की तरह जिस पे हक सिर्फ शायर का है
मैं वही शायर बनना चाहता हूं
पर तुम्हारी तारीफ में इससे ज्यादा लिख नहीं पाता
कि झरने भी प्यासे हो जाते हैं जब तुम अपनी भीगी जुल्फें झटकती हो
तुम्हारी नाक की बनावट पे भगवानों में आज भी एक मिसाल कायम है
बहक जाती वो हवा भी जो तुम्हारी उंगलियों के बीच से होकर गुजरती है
मेरे दिल की धड़कन कि अगर कोई आवाज होती तो बिल्कुल तुम्हारे झुमके के खनक की तरह सुनाई देती
और तुम्हारी आंखें..तुम्हारी आंखों में एक ब्रह्मांड बसा है
जिसका मैं एक छोटा हिस्सा बनना चाहता हूं
 एक सितारा ही सही जिसकी रोशनी उसके जाने के बाद भी तुम्हारी जेहनियत में रहें
मुझे तारीखे याद नहीं रहती पर तुम्हारी सारी हरकतें याद है
जैसे सज सवरकर जब तुम आईने के सामने खड़ी हो जाती थी
तो खुद को देखने के बहाने मेरी तरफ देखा करती थी
एक तारीख की उम्मीद में, जो मैं नहीं करता था
फिर तुम पलट कर मुझसे कहती कि कैसी दिख रही हूं मैं?
तो मैं कहता 'बहुत सुंदर'
तो ये बिना पूछे नहीं बता सकते थे तुम?
क्यों बताता सुंदर तो तुम्हें सब कह देते पर जिस भोलेपन से तुम वो सवाल मुझसे पूछती हो
वो हर किसी के नसीब में नहीं आता
जब तुम नाराज हो के किसी कोने में बैठ जाया करती थी
तो मैं जानबूझकर बेवकूफी वाली हरकतें करता था
जिसकी वजह से तुम्हारे होठों पर एक आधे चांद की मिस्ल एक मुस्कान आ जाती थी
और मेरे दिल में ईद बन जाती थी
तुम हर चीज संभाल के रखा करती थी
वो मूवी के टिकटे जो हमने साथ देखी थी
फिर वो तौफे जो मैंने तुम्हें दिए थे
शायद मेरा एकाक दो कमीज भी रख देती अगर डब्बा बड़ा होता तो
पर मैं कुछ संभाल कर नहीं रख पाया
ना चीजों को ना तुम्हें
पर मैंने तुम्हें पूरा का पूरा खुद में समेट कर रखा है
अपने मन मुताबिक तुम्हारे साथ जी लेता हूं फिर से
तुम्हारे बचपने पर आज भी हंस देता हूं
तुम्हारी कहानियों को उतने ही प्यार से सुनता हूं
हां तुम्हारे कुछ फैसले जिन पे आज भी नाराज बैठा हूं
और कभी कबार तुम्हारी गोद में सो लेता हूं
इसी बहाने नींद आ जाती है
मैं आज भी सोचता कि काश, काश हमारी लकीरों को बांध पाता तो हम उसकी गांठ पर हमारा घर बना लेते
पर जब हमने कोशिश की तो बीच में 1 इंच का फासला रह गया
 जो हमारी गलतफहमी, गलत फैसलों का था
उस फासले को भरने में एक जिंदगी निकल जाएगी
खैर.. मैं आज भी तुम्हारे बारे में लिख रहा हूं।

                                           – Yahya Bootwala