Koi Toh Ho Lyrics :- A famous young poetess Nidhi Narwal given a suprise to her every fans and supporters by giving a beautiful poetry which is titled "Koi Toh Ho" performed and written by her under the label of Spill Poetry. Everyone excited to listen this beautiful poetry if you too so read this poetry and have a joy. Thanks!


Koi Toh Ho Lyrics :- A famous young poetess Nidhi Narwal given a suprise to her every fans and supporters by giving a beautiful poetry which is titled "Koi Toh Ho" performed and written by her under the label of Spill Poetry. Everyone excited to listen this beautiful poetry if you too so read this poetry and have a joy. Thanks!

Koi Toh Ho Poetry 


Koi toh ho jo sune toh sune bas meri nigaah ko
Kyoki jubaan par aksar taale  
Aur nazron mein bahut saari kahaaniya rakhti hoon main
Wo mujhse baat karne aaye aur kahein
Ki mujhse nazarein milaao
Phir ho yun ki wo kahein
Ki kuch kehna chaahati ho?
Jo nahin kehna chaahati wo toh maine sunn liya
Dil toh har jagah se toota hua hai mera
Dil ke har kone, har deewaar mein chhed hai 
Magar koi toh ho jo jhank kar andar aane me dilchaspi rakhe 
Jhank kar bhagne me nahi
Dil toh dher ho chuka ek ghar hai
Jo marmmat nahi mangta, bas sohbat mangta hai
Uss shakhs ki jo ki iski tooti hui deewaron ke andar aa kar
Ise jor jor se ye bataaye ki iski bachi kuchi deeware maili hai
Jo rangi ja sakti hai
Kuch tasveere tangi hai ab bhi puraani
Jo phenki ja sakti hai
Haan waise kaafi nuksaan hua hai dar-o-deewar ke tootne se
Magar iski buniyaad ab bhi salamat hai


Koi toh ho ki jo dekhein toh dekhein bas mujhko
Kahein mujhse ki ye muskurahat na khoobsurat toh hai
Magar khaas nahin
Khaas hai ye zakhm jo tumne kamaaye hai pehne nahin
Kahein mujhse ki ye khushi meri hai main nahin
Kahein mujhse ki jo main dikhti hoon na wo main hoon nahin
Kahein mujhse ki main apni nazmon ko
Apni zehen ke aage ka parda bana kar rakhti hoon
Parda jiske aar paar dikhta hai

Kahein mujhse ki meri mushkurahatein bas meri nakaam koshishein hai
Apne jazbaat pe lagaam lagaane ke liye
Kahein mujhse ki ye naqaab utaar kar rakh de tu
Aur Aaina dekh mahaj khud ko dekhne ke liye 
Chhupaane ke liye nahin
Kahein mujhse ki tu dard ka chehera hai 
Daraaron se bhara hua, bigda hua
Dard jo haseen hai, ishq hai
Kahein mujhse ki tu dard hai, haseen hai, ishq hai

                                      – Nidhi Narwal


Koi Toh Ho Poetry In Hindi


कोई तो हो जो सुने तो सुने बस मेरी निगाह को
क्योंकि जुबान पर अक्सर ताले  
और नज़रों में बहुत सारी कहानियाँ रखती हूँ मैं
वो मुझसे बात करने आये और कहें
की मुझसे नज़रें मिलाओ
फिर हो यूँ की वो कहें
कि कुछ कहना चाहती हो?
जो नहीं कहना चाहती हो वो तो मैंने सुन लिया
दिल तो हर जगह से टूटा हुआ है मेरा
दिल के हर कोने, हर दीवार में छेद है
मगर कोई तो हो जो झांक कर अंदर आने में दिलचस्पी रखें
झांक कर भागने में नहीं
दिल तो ढेर हो चुका एक घर है
जो मरम्मत नहीं मांगता, बस सोहबत मांगता है
उस शख्स की जो कि इसकी टूटी हुई दीवारों के अन्दर आ कर
इसे जोर जोर से ये बताए कि इसकी बची कुची दीवारे मैली है
जो रंगी जा सकती है
कुछ तस्वीरें टंगी है अब भी पुरानी
जो फेंकी जा सकती है
हाँ वैसे काफी नुकसान हुआ है दर-ओ-दीवार के टूटने से
मगर इसकी बुनियाद अब भी सलामत है
कोई तो हो कि जो देखें तो देखें बस मुझको
कहें मुझसे कि ये मुस्कराहट ना खूबसूरत तो है
मगर ख़ास नहीं
ख़ास है ये ज़ख्म जो तुमने कमाये है पहने नहीं
कहें मुझसे कि ये ख़ुशी मेरी है मैं नहीं
कहें मुझसे कि जो मैं दिखती हूँ ना वो मैं हूँ नहीं
कहें मुझसे कि मैं अपनी नज़्मों को
अपनी ज़हन के आगे का पर्दा बना कर रखती हूँ
पर्दा जिसके आर पार दिखता है

कहें मुझसे कि मेरी मुस्कुराहटें बस मेरी नाकाम कोशिशें है
अपने जज़्बात पे लगाम लगाने के लिए
कहें मुझसे कि ये नक़ाब उतार कर रख दे तू
और आइना देख महज खुद को देखने के लिए
छुपाने के लिए नहीं
कहें मुझसे कि तू दर्द का चेहरा है
दरारों से भरा हुआ, बिगड़ा हुआ
दर्द जो हसीं है, इश्क़ है
कहें मुझसे की तू दर्द है, हसीं है, इश्क़ है

                                                   – निधि नरवाल


Koi Toh Ho Poetry Video