This Beautiful Poem 'Ladke Bhi Haarte Hai Ishq Mein'  which is written and performed by Jai Ojha.

Ladke Bhi Haarte Hai Ishq Mein

Ladke bhi haarte hai ishq mein
Kho dete hain apna ek hissa hamesha ke liye
Rote hain bilkhte hain
Cheekhte hain band labon se 
Dam tod dete hain apna 
Kisi ki yaad mein
Daadhi badhaakar chhupa lete hain
Apne chehre ka gham
Lagaate hain bina filter ki DP
Aur dikhaate hain sach ko jyon ka tyon
Guzaar dete hain maheenon
Ek hi jeans mein
Ponchhna bhool jaate hain 
Apne jooton ko amooman
Sookhte hain inke bhi aansoo 
Gaal par hi
Bita dete hain kai kai din 
Bina dekhe chehra apna
Raaton ki neend rahti hai baaqi
Munh rakhkar
So jaate hain mej par 
Kaali si aankhon mein
Liye chalte hain kuchh
Mare hue khwaab
Aur kahlaate hain aawaara nithlla bekaar 
Apani gaadi ko daudaate hain 
Sunsaan ilaaqon mein
Door kaheen anjaan raaston mein
Bhool jaate hain aksar kahan jaana hain
Khaate hain chot apnon se 
Azeez logon se sunte hain taane
Tootte hain bina shor kiye
Chupchaap kisi kone mein 
Bheetar hi bheetar 
Bina shikaayat kiye
Dafn kar dete hain apne jazbaaton ko 
Paseene se banaate hain cleanser apna
Saaf karte hain patriarchy ka dhabba
Bhool jaate hain khud ko sabki khushi ke liye
Aur ant mein 
Khud hi khud ko dete hain kandha 
Ladke bhi haarte hain ishq mein
Kho dete hain apna ek hissa hamesha ke liye..

                                                – Jai Ojha 


लड़के भी हारते हैं इश्क़ में (In Hindi) 

लड़के भी हारते हैं इश्क़ में
खो देते हैं अपना एक हिस्सा हमेशा के लिए
रोते हैं बिलखते हैं
चीख़ते हैं बंद लबों से 
दम तोड़ देते हैं अपना 
किसी की याद में
दाढ़ी बढ़ाकर छुपा लेते हैं
अपने चेहरे का ग़म
लगाते हैं बिना फ़िल्टर की डीपी
और दिखाते हैं सच को ज्यों का त्यों
गुज़ार देते हैं महीनों
एक ही जीन्स में
पौंछना भूल जाते हैं 
अपने जूतों को अमूमन
सूखते हैं इनके भी आँसू 
गाल पर ही
बिता देते हैं कई कई दिन 
बिना देखे चेहरा अपना
रातों की नींद रहती है बाक़ी
मुँह रखकर
सो जाते हैं मेज पर 
काली सी आँखों में
लिए चलते हैं कुछ
मरे हुए ख़्वाब
और कहलाते हैं आवारा निठल्ला बेकार 
अपनी गाड़ी को दौड़ाते हैं 
सुनसान इलाक़ों में
दूर कहीं अनजान रास्तों में
भूल जाते हैं अक्सर कहाँ जाना हैं
खाते हैं चोट अपनों से 
अज़ीज़ लोगों से सुनते हैं ताने
टूटते हैं बिना शोर किए
चुपचाप किसी कोने में 
भीतर ही भीतर 
बिना शिकायत किए
दफ़्न कर देते हैं अपने जज़्बातों को 
पसीने से बनाते हैं क्लिंजर अपना
साफ़ करते हैं पेट्रियार्की का धब्बा
भूल जाते हैं ख़ुद को सबकी ख़ुशी के लिए
और अंत में 
ख़ुद ही ख़ुद को देते हैं कंधा 
लड़के भी हारते हैं इश्क़ में
खो देते हैं अपना एक हिस्सा हमेशा के लिए

                                            – जय ओझा