This Beautiful Shayari 'Usko Paana Hai To Poora Pagal Ban' which is written and performed by Young Poet Varun Anand of the stage of Jashn-e-Rekhta.



Usko Paana Hai To Poora Pagal Ban Shayari :-  This Beautiful Shayari 'Usko Paana Hai To Poora Pagal Ban' which is written and performed by Young Poet Varun Anand of the stage of Jashn-e-Rekhta.


Usko Paana Hai To Poora Pagal Ban

Apni aankhon mein bhar kar le jaane hain
Mujhko uske aansoo kaam mein laane hai
Dekho hum koi vehshi nahin, deewane hain
Tumse batan khulwaane nahin lagwaane hai
Hum tum ek dooje ki seedhi hai jaana
Baaki duniya toh saapon ke khaane hain
Paqeeza cheezon ko paqeeza likho
Mat likho uski aankhen maikhaane hain

Teri nigaah-e-naaz se chhoote hue darkht
Mar jayen kya karen bata sookhe hue darkht
Hairat hain ped neem ke dene lage hain aam
Pagala gaye hain aapke choome hue darkht



Tere peechhe hogi duniya, pagal ban
Kya bola maine kuchh samajha?.. pagal ban
Sehara mein bhi dhoondh le dariya, pagal ban
Warna mar jayega pyaasa, pagal ban
Aadha daana aadha pagal, nahin nahin nahin
Usko paana hai to poora pagal ban
Daanai dikhlaane se kuch haasil nahi
Pagal khaana hai ye duniya, pagal ban
Dekhein tujhko log to pagal ho jayen
Itna umda itna aala pagal ban
Logon se dar lagta hai? to ghar mein baith
Jigra hai to mere jaisa pagal ban

Chaand, sitaare, phool, parinde, shaam, sawera ek taraf
Saari duniya uska charba uska chehra ek taraf
Wo lad kar bhi so jaye toh uska maatha choomu main
Usse muhabbat​ ek taraf hai usse jhagda ek taraf
Jis shay par wo ungli rakh de usko wo dilwaani hai
Uski khushiyaan sabse awval sasta mahnga ek taraf
Zakhmon par marham lagwao lekin uske haathon se
Chaara-saazi ek taraf hai uska chhoona ek taraf
Saari duniya jo bhi bole sab kuch shor-sharaaba hai
Sabka kahna ek taraf hai uska kahna ek taraf
Usne saari duniya maangi maine usko maanga hai
Uske sapne ek taraf hain mera sapna ek taraf

Jheelen kya hain?
Uski aankhen

Umda kya hai?
Uska chehara



Khushboo kya hai?
Uski saansein

Khushiya kya hain?
Uska hona

Toh gham kya hai?
Usse judaai

Saawan kya hai?
Uska rona

Sardi kya hai?
Uski udaasi

Garmi kya hai?
Uska gussa

Aur bahaaren?
Uska hansna

Meetha kya hai?
Uski baaten

Kadwa kya hai?
Meri baaten

Kya padhna hai?
Uska likkha

Kya sunna hai?
Uski ghazalen

Lab ki khwaahish?
Uska maatha

Zakhm ki khwaahish?
Uska chhoona

Dil ki khwaahish?
Usko paana

Duniya kya hai?
Ik jangal hai

Aur tum kya ho?
Ped samajh lo

Aur wo kya hai?
Ik raahi hai

Kya socha hai?
Usse muhabbat

Kya karte ho?
usse muhabbat

Iss ke alaawa?
Usse muhabbat

Matlab pesha?
Usse muhabbat

Usse muhabbat, Usse muhabbat, Usse muhabbat....

                                    – Varun Anand


Usko Paana Hai To Poora Pagal Ban In Hindi

अपनी आंखों में भर कर ले जाने हैं
मुझको उसके आंसू काम में लाने है
देखो हम कोई वेहसी नहीं, दीवाने हैं
तुमसे बटन खुलवाने नहीं लगवाने है
हम तुम एक दूजे की सीढ़ी है जाना
बाकी दुनिया तो सांपों के खाने हैं
पाक़ीज़ा चीजों को पाक़ीज़ा लिखो
मत लिखो उसकी आंखें मयखाने हैं

तेरी निगाह-ए-नाज से छूटे हुए दरख़्त
मर जाएं क्या करें बता सूखे हुए दरख़्त
हैरत हैं पेड़ नीम के देने लगे हैं आम
पगला गए हैं आपके चूमे हुए दरख़्त



तेरे पीछे होगी दुनिया, पागल बन
क्या बोला मैंने कुछ समझा?.. पागल बन
सेहरा में भी ढूंढ ले दरिया, पागल बन
वरना मर जाएगा प्यासा, पागल बन
आधा दाना आधा पागल, नहीं नहीं नहीं
उसको पाना है तो पूरा पागल बन
दानाई दिखलाने से कुछ हासिल नही
पागल खाना है ये दुनिया, पागल बन
देखें तुझको लोग तो पागल हो जाएँ
इतना उम्दा इतना आला पागल बन
लोगों से डर लगता है? तो घर में बैठ
जिगरा है तो मेरे जैसा पागल बन

चाँद, सितारे, फूल, परिंदे ,शाम ,सवेरा एक तरफ़
सारी दुनिया उसका चर्बा उसका चेहरा एक तरफ़
वो लड़ कर भी सो जाए तो उसका माथा चूमूँ मैं
उससे मुहब्बत एक तरफ़ है उससे झगड़ा एक तरफ़
जिस शय पर वो उँगली रख दे उसको वो दिलवानी है
उसकी ख़ुशियाँ सबसे अव्वल सस्ता महंगा एक तरफ़
ज़ख़्मों पर मरहम लगवाओ लेकिन उसके हाथों से
चारा-साज़ी एक तरफ़ है उसका छूना एक तरफ़
सारी दुनिया जो भी बोले सब कुछ शोर-शराबा है
सबका कहना एक तरफ़ है उसका कहना एक तरफ़
उसने सारी दुनिया माँगी मैने उसको माँगा है
उसके सपने एक तरफ़ हैं मेरा सपना एक तरफ़

झीलें क्या हैं?
उसकी आँखें

उम्दा क्या है?
उसका चेहरा

ख़ुश्बू क्या है?
उसकी साँसें

खुशियाँ क्या हैं?
उसका होना

तो ग़म क्या है?
उससे जुदाई

सावन क्या है?
उसका रोना

सर्दी क्या है?
उसकी उदासी

गर्मी क्या है?
उसका ग़ुस्सा

और बहारें?
उसका हँसना

मीठा क्या है?
उसकी बातें

कड़वा क्या है?
मेरी बातें

क्या पढ़ना है?
उसका लिक्खा

क्या सुनना है?
उसकी ग़ज़लें

लब की ख़्वाहिश?
उसका माथा

ज़ख़्म की ख़्वाहिश?
उसका छूना

दिल की ख़्वाहिश?
उसको पाना

दुनिया क्या है?
इक जंगल है

और तुम क्या हो?
पेड़ समझ लो

और वो क्या है?
इक राही है

क्या सोचा है?
उस से मुहब्बत

क्या करते हो?
उससे मुहब्बत

इसके अलावा?
उससे मुहब्बत

मतलब पेशा?
उससे मुहब्बत

उससे मुहब्बत, उससे मुहब्बत, उससे मुहब्बत.......

                                      – वरुण आनंद


Usko Paana Hai To... Video