This beautiful poetry 'Tera Khyal' which is written and performed by Niraj Nidan for The Social House.

Tera Khayal

Khyaal dekhe hain tumne kabhi
Bahut rangon ke hote hain
Main unhin rangon se apni zindagi ko rangta rahta hoon
Ajeeb baat hai na
Tumne shayad dekhe nahin isliye ajeeb hai
Kabhi baarish mein girti boond ko dekha hai
Ek khyaal hai tum kahoge usmen koi rang to nahin
Wo rang wahan se aata hai
Jahaan se wo khyaal judta hai
Kabhi-kabhi mere andar kuch bahut jor se tootta hai
Par wo tootna bhi ek khyaal lekar aata hai
Us tootne ki chubhan us chubhan ka dard
Aur us dard ka ehasaas wo bhi ek rang dekar jaata hai
Tum sira dhoondhoge to tumhen kabhi nahin milega
Kahan se aaya? Kahan se nikala? Kahan tak jayega?
Ye ek silsila hai jo parat-dar-parat khulta chala jayega
Tum jitna mahsoos karoge na
Utna rangte jaoge​ kabhi zindagi badrang lage na to khyaalon mein aana bahut rang paaoge
Ye phone jo main haath mein liye khada hoon
Ye bajega abhi....Khyaal hai mera!
Dekho naa ye sochte hi chehre ka rang badal gaya
Dekh pa rahe ho? Thoda gulaabi gulaabi sa
Aa raha hai nazar?...Khyaal hai uska
Main bahut baaten bhi karta hoon usse khyaalon mein
Aajkal zara roothi roothi si rahti hai
Shayad mere khyaalon ke rang nahin hai uske paas
Aajkal duniya ke rang mein rahatee hai
Apane dhang mein rahatee hai
Par jab lautegee na mere khayaalon mein
Mere rang chadhege us par
Shayad thode kacche hain mere khyaalon ke rang
Jaldi nahin chadhte
Mujhse door rahti hai
Mujhe mahsoos karti hai
Par main hamesha uske rang mein rahta hoon
Mujhe rang bahut pasnd hai
Main badarang nahin rahta uske siwa koi aur rang chadhta hi nahin
To bas main uske rang mein rahta hoon
Main uske sang mein rahta hoon
Aur ye mahal ek rangeen khyaal hai mera...

                           – Niraj Nidan



Tera Khayal (In Hindi)

ख्याल देखे हैं तुमने कभी
बहुत रंगों के होते हैं
मैं उन्हीं रंगों से अपनी जिंदगी को रंगता रहता हूं
अजीब बात है ना
तुमने शायद देखे नहीं इसलिए अजीब है
कभी बारिश में गिरती बूंद को देखा है
एक ख्याल है तुम कहोगे उसमें कोई रंग तो नहीं
वो रंग वहां से आता है
जहां से वो ख्याल जुड़ता है
कभी-कभी मेरे अंदर कुछ बहुत जोर से टूटता है
पर वो टूटना भी एक ख्याल लेकर आता है
उस टूटने की चुभन उस चुभन का दर्द 
और उस दर्द का एहसास वो भी एक रंग देकर जाता है
तुम सिरा ढूंढोगे तो तुम्हें कभी नहीं मिलेगा
कहां से आया? कहां से निकला? कहां तक जाएगा?
ये एक सिलसिला है जो परत दर परत खुलता चला जाएगा
तुम जितना महसूस करोगे ना
उतना रंगते जाओगे​ कभी जिंदगी बदरंग लगे ना तो ख्यालों में आना बहुत रंग पाओगे
ये फोन जो मैं हाथ में लिए खड़ा हूं
ये बजेगा अभी....ख्याल है मेरा! 
देखो ना ये सोचते ही चेहरे का रंग बदल गया
देख पा रहे हो? थोड़ा गुलाबी गुलाबी सा 
आ रहा है नजर?...ख्याल है उसका
मैं बहुत बातें भी करता हूं उससे ख्यालों में
आजकल जरा रूठी रूठी सी रहती है
शायद मेरे ख्यालों के रंग नहीं है उसके पास 
आजकल दुनिया के रंग में रहती है
अपने ढंग में रहती है
पर जब लौटेगी ना मेरे खयालों में
मेरे रंग चढ़ेगे उस पर 
शायद थोड़े कच्चे हैं मेरे ख्यालों के रंग 
जल्दी नहीं चढ़ते
मुझसे दूर रहती है
मुझे महसूस करती है 
पर मैं हमेशा उसके रंग में रहता हूं
मुझे रंग बहुत पसंद है
मैं बदरंग नहीं रहता उसके सिवा कोई और रंग चढ़ता ही नहीं 
तो बस मैं उसके रंग में रहता हूं
मैं उसके संग में रहता हूं
और ये महल एक रंगीन ख्याल है मेरा 

                                       – निरज निदान