This beautiful poem 'Mai Shunya Pe Sawaar Hoon' which is written and performed by Zakir Khan.

Mai Shunya Pe Sawaar Hoon

Mai Shunya pe sawaar hoon
Be adab sa mai khumar hoon
Mushkilo se mai kya darun
Mai khud keher hazaar hoon
Ki unch neech se pare
Majal aankh me bhare 
Mai lad pada hu raat se 
Mashaal haath me liye
Na surya mere saath hai
Toh kya nayi ye baat hai
Wo sham ko tha dhal gya
Wo raat se tha darr gaya
Mai joognuon ka yaar hoon
Mai shunya pe sawaar hoon!

Ki bhawnaayein hai mar chuki
Samwednaayein ab khatm hai
Ki ab dard se kya darun
Zindagi hi zakhm hai
Mai beech rah ki maat hoon
Bejaan-syaah raat hoon
Mai kaali ka shringaar hoon
Mai shunya pe sawar hoon!

Hu raam ka sa tez main,
Lankapati sa gyaan hoon
Kiski karoon araadhana 
Sab se jo main mahaan hoon,
Brahmaand ka main sar hoon,
Main jal-prawah nihaar hoon,
Main shunya pe sawar hoon!
Main shunya pe sawar hoon!

                                      – Zakir Khan


Mai Shunya Pe Sawaar Hoon In Hindi

मैं शून्य पे सवार हूँ
बेअदब सा मैं खुमार हूँ
अब मुश्किलों से क्या डरूं
मैं खुद कहर हज़ार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

उंच-नीच से परे
मजाल आँख में भरे
मैं लड़ रहा हूँ रात से
मशाल हाथ में लिए
न सूर्य मेरे साथ है
तो क्या नयी ये बात है
वो शाम होता ढल गया
वो रात से था डर गया
मैं जुगनुओं का यार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

भावनाएं मर चुकीं
संवेदनाएं खत्म हैं
अब दर्द से क्या डरूं
ज़िन्दगी ही ज़ख्म है
मैं बीच रह की मात हूँ
बेजान-स्याह रात हूँ
मैं काली का श्रृंगार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

हूँ राम का सा तेज मैं
लंकापति सा ज्ञान हूँ
किस की करूं आराधना
सब से जो मैं महान हूँ
ब्रह्माण्ड का मैं सार हूँ
मैं जल-प्रवाह निहार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ
मैं शून्य पे सवार हूँ

                              – ज़ाकिर ख़ान 



Mai Shunya Pe Sawaar Hoon Video