This beautiful Shayari And Nazm  has written and performed by Abrar Kashif.



Abrar Kashif Best Shayari And Nazm

मंज़िलों का कौन जाने रहगुज़र अच्छी नहीं
उसकी आँखें खूबसूरत है नज़र अच्छी नहीं

अब तो लगता है कि आ जायेगी बारी मेरी
किसने दे दी तेरी आँखों को सुपारी मेरी 

दिन में मिल लेते कहीं रात ज़रूरी थी क्या?
बेनतीजा ये मुलाक़ात ज़रूरी थी क्या 
मुझसे कहते तो मैं आँखों में बुला लेता तुम्हें
भीगने के लिए बरसात ज़रूरी थी क्या

घर की तक़सीम में अंगनाई गवा बैठे है 
फूल गुलशन से शिनसाई गवा बैठे है 
बात आँखों से समझ लेने का दावा मत कर
हम इसी शौक में बीनाई गवा बैठे है 

हर इक लफ़्ज़ के तेवर ही कुछ और होते है 
तेरे नगर के सुखनवर ही कुछ और होते है
तुम्हारी आँखों में वो बात ही नहीं है ऐ दोस्त
डुबोने वाले समंदर ही और होते है 

मेरा अरमान मेरी ख्वाहिश नहीं है
ये दुनिया मेरी फ़रमाहिश नहीं है 
मैं तेरे ख्वाब वापस कर रहा हूँ 
मेरी आँखों में गुंजाइश नहीं है

वो तो अच्छा है ग़ज़ल तेरा सहारा है मुझे 
वर्ना फ़िक्रों ने तो बस घेर के मारा है मुझे 
जिसकी तस्वीर, मैं कागज़ पे बना भी न सका
वो तो अच्छा है ग़ज़ल तेरा सहारा है मुझे
वर्ना फ़िक्रों ने तो बस घेर के मारा है मुझे
जिसकी तस्वीर, मैं कागज़ पे बना भी न सका
उसने मेहँदी से हथेली पे उतारा है मुझे
ग़ैर के हाथों से मरहम मुझे मंजूर नहीं
तुम मगर ज़ख्म भी दे दो तो गवारा है मुझे

अब के हम तर्क-ए-रसूमात करके देखते है
बीच वालों के बिना बात करके देखते है
इससे पहले कि कोई फैसला तलवार करे
आखिरी बार मुलाक़ात करके देखते है

आवारगी के सारे हवालों को खुला छोड़
सेहरा की याद पाँव की छालों को खुला छोड़
करती है तो करने दे हवाओं को शरारत
मौसम का तकाज़ा है कि बालों को खुला छोड़

तू अपनी चिठियों में मीर के अशआर लिखती है
मोहोब्बत के बिना है ज़िन्दगी बेकार लिखती है
तेरे खत तो इबारत है वफादारी के कसमों से
जिन्हें मैं पढ़ते डरता हूँ वही हर बार लिखती है

तू पैरोकार लैला की है शिरीन की पुजारन है
मगर तू जिसपे बैठी है वो सोने का सिंहासन है
तेरी पलकों के मस्कारे, तेरे होठों की ये लाली
ये तेरे रेश्मी कपड़े ये तेरे कान की बाली
गले का ये चमकता हार, हाथों के तेरे कंगन
ये सब के सब है मेरे दिल मेरे एहसास के दुश्मन

इनके सामने कुछ भी नहीं है प्यार की कीमत
वफ़ा का मोल क्या, क्या है ऐतबार की क़ीमत
शकस्ता कश्तियों टूटी हुई पतवार की क़ीमत
है मेरी जीत से बढ़कर तो तेरी हार की कीमत

हकीकत खून के आंसू तुझे रुलवायेगी जाना
तू अपने फैसले पर बाद में पछ्तायेगी जाना
मेरे काँधे पर छोटे भाइयों की ज़िम्मेदारी है
मेरे माँ बाप बूढ़े है बेहन भी तो कंवारी है
बहे न मौसमों के वार को तू सेह न पायेगी
हवेली छोड़ कर तू इक झोपड़ी में रह ना पायेगी

अमीरी तेरी मेरी मुफलिसी को छल नहीं सकती
तू नंगे पाँव तो कालीन पर चल नहीं सकती

अपने दिल में बसाओगे हमको
और गले से लगाओगे हमको
हम नहीं इतने प्यार के काबिल
तुम तो पागल बनाओगे हमको

दिल को तेरी ख्वाहिश पहली बार हुई
इस सेहरा में बारिश पहली बार हुई
मांगने वाले हीरे मोती मांगते है
अश्कों की फ़रमाहिश पहली बार हुई

तरीके और भी है इस तरह परखा नहीं जाता
चरागों को हवा के सामने रखा नहीं जाता
मोहोब्बत फैसला करती है पहले चंद लम्हों में,
जहा इश्क़ होता है वहां​ सोचा नहीं जाता

अगर तुम हो तो घबराने की कोई बात थोड़ी है
ज़रा सी बूँदाबाँदी है, बहुत बरसात थोड़ी है
ये राह-ए-इश्क़ है इसमें कदम ऐसे ही उठते है
मोहोब्बत सोचने वालों के बस की बात थोड़ी है

                                         – अबरार काशिफ 



Manzilon ka kaun jaane rehguzar achchi nahi
Uski aankhein khoobsurat hai nazar achchi nahi

Ab toh lagta hai ki aa jaayegi baari meri
Kisne de di teri aankhon ko supaari meri

Din mein mil lete kahin raat zaroori thi kya
Benatija ye mulaqaat zaroori thi kya
Mujhse kehte toh main aankhon mein bula leta tumhe
Bheegne ke liye barsaat zaroori thi kya

Ghar ki taqseem mein angnaai gawa baithe hai
Phool gulshan se shinasaai gawa baithe hai
Baat aankhon se samajh lene ka daawa mat kar
Hum issi shaunk mein beenaai gawa baithe hai

Har ik lafz ke tevar hi kuch aur hote hai
Tere nagar ke sukhanvar hi kuch aur hote hai
Tumhaari aankhon me wo baat hi nahi hai ae dost
Dabone waale smandar hi aur hote hai

Mera armaan meri khawaahish nahin hai
Ye duniya meri farmaahish nahin hai
Main tere khwaab waapas kar raha hoon
Meri aankhon mein gunjaaish nahin hai

Wo toh accha hai ghazal tera sahara hai mujhe
Warna fikron ne toh bas gher ke maara hai mujhe
Jiski tasveer main kaagaz pe bana bhi na saka
Usne mehendi se hatheli pe utaara hai mujhe
Ghair ke haathon se marham mujhe manjoor nahin
Tum magar zakhm bhi de do toh gawaara hai mujhe

Ab ke hum tark-e-rasumaat karke dekhte hai
Beech waalon ke bina baat karke dekhte hai
Isse pehle ki koi faisla talwaar kare
Aakhiri baar mulaqaat karke dekhte hai

Aawargi ke saare hawaalon ko khula chhod
Sehra ki yaad paanv ki chhalon ko khula chhod
Karti hai toh karne de hawaaon ko sharaarat
Mausam ka takaaza hai ki baalon ko khula chhod

Tu apni chithiyon mein meer ke ashaar likhti hai
Mohobbat ke bina hai zindagi bekaar likhti hai
Tere khat toh ibaarat hai wafadaari ke kasmon se
Jinhein main padte darta hoon wahi har baar likhti hai

Tu pairokaar laila ki hai Shirin ki pujaaran hai
Magar tu jispe baithi hai wo sone ka singhasan hai

Teri palkon ke maskaare tere hothon ki ye laali
Ye tere reshmi kapde ye tere kaan ki baali

Gale ka ye chamkata haar haathon ke tere kangan
Ye sab ke sab hai mere dil mere ehsaas ke dushmann

Inke saamne kuch bhi nahin hai pyaar ki qeemat
Wafa ka mol kya, kya hai aitbaar ki qeemat
Sakasta kashtiyon tooti hui patwaar ki qeemat
Hai meri jeet se badhkar toh teri haar ki qeemat

Haqeeqat khoon ke aansu tujhe rulwaayegi jaana
Tu apne faisle par baad mein pachtaayegi jaana
Mere kaandhe par chhote bhaaiyon ki zimmedaari hai
Mere maa baap boodhe hai behen bhi toh kawaari hai
Bahe na mausmon ke waar ko tu seh na paayegi
Haweli chhod kar tu ik jhopde mein reh naa paayegi

Ameeri teri meri muflisi ko chhal nahi sakti
Tu nange paanv toh qaaleen par chal nahi sakti

Apne dil me basaaoge humko
Aur gale se lagaaoge humko
Hum nahi itne pyaar ke qaabil
Tum to paagal banaaoge humko

Dil ko teri khwaahish pehli baar hui
Iss sehra me baarish pehli baar hui
Mangne wale heere moti mangte hai
Ashko ki farmaahish pehli baar hui

Tarike aur bhi hai iss tarah parkha nahi jaata
Charagon ko hawa ke samne rakkha nahi jaata
Mohobbat faisla karti hai pahle chand lamho me,
Jahan ishq hota hai wahan socha nahi jaata

Agar tum ho to ghabrane ki koi baat thodi hai
Zara si bundabandi hai, bahut barsaat thodi hai
Ye raah-e-Ishq hai isme kadam aise hi uthte hai
Mohobbat sochne walo ke bas ki baat thodi hai

                              – Abrar Kashif