This beautiful poetry 'Ab Wo Mere Hi Kisi Dost Ki Mankooha Hai' which is written and performed by Young Shayar Tehzeeb Hafi on faisalabad.


Ab Wo Mere Hi Kisi Dost Ki Mankooha Hai...

Tehzeeb Hafi Best Poetry

Mallaho ka dhyan batakar dariya chori kar lena hai
Katra katra karke maine saara chori kar lena hai
Tum usko majboor kiye rakhna baate karte rehne par
Itni der mein maine uska lehza chori kar lena hai
Mere khaak udaane par pabandi aayat karne waalo
Maine kaun sa aapke shehar ka rasta chori kar lena hai
Aaj to main apni tasveer ko kamre me hi bhool aaya hoon
Lekin usne ek din mera batua chori kar lena hai

Jo tere saath rahte hue sau gawaar ho,
Laanat ho aise shakhs pe aur beshumaar ho,
Ab itni der bhi na laga, ye ho na kahin
Tu aa chuka ho aur tera intzaar ho
Mai phool hoon to phir tere baalo mein kyon nahi hoon
Tu teer hai to mere kaleje ke paar ho
Ik aasteen chadaane ki aadat ko chhod kar
'Hafi' tum aadmi to bahut shandaar ho

Khaak hi khaak thi aur khaak bhi kya kuch nahin tha
Mai jab aaya to mere ghar ki jagah kuch nahin tha
Kya karoon tujhse khayanat nahin kar sakta main
Warna us aankh mein mere liye kya kuch nahin tha
Ye bhi sach hai mujhe kabhi usne kuch na kaha
Ye bhi sach hai ki us aurat se chhupa kuch nahin tha
Ab wo mere hi kisi dost ki mankooha hai
Main palat jaata magar peechhe bacha kuch nahin tha.

[ khayanat = अमानत रखी वस्तु को चुरा लेना (Stealing goods held security),  
Mankooha = विवाहित, ब्याही हुई स्त्री (married /after nikah ritual) ]

Ye kis tarah ka taalluk hain aapka mere saath
Mujhe hi chhod ke jaane ka mashwara mere saath
Yahin kahin hamein raston ne baddua di thi
Magar main bhool gaya aur kaun tha mere saath
Wo jhaankta nahi khidki se din nikalta hai
Tujhe yakin nahin aa raha toh aa mere saath

Khawabon ko aankhon se minha karti hai
Niind hamesha mujhse dhokha karti hai
Us ladki se bas ab itna rishta hai
Mil Jaaye toh baat wagera karti hai

[ Minha = उन सब में से निकाला हुआ (Out of them all) ]

Ab us jaanib se is kasarat se tohfe aa rahe hai
Ke ghar mein hum ek nayi almaariya banawa rahe hai
Hamein milna toh in abaadiyon se door milna
Usse kahna gaye waqton mein hum dariya rahe hai

Tujhe kis kis jagah par apne andar se nikaale
Hum is tasveer mein bhi tujhse mil ke aa rahe hain
Hajaaron log usko chaahte honge.. hamein kya?
Ke hum us geet mein se apna hissa ga rahe hain
Bure mausam ki koi had nahin 'Tehzeeb Hafi'
Fiza aayi hai aur pinjaron mein par murjha rahe hain

Jahan par jor dene se bhi yaad nahin aata ki hum kya dekhte the
Sirf itna pata hai ki hum aam logon se bilkul juda dekhte the
Tab hamein apne purkhon se virse mein aayi hui baddua yaad aayi
Jab kabhi apni aankhon ke aage tujhe shahar jaata hua dekhte the
Sach batayein to teri mohabbat ne khud par tawajjo dilayi hamaari
Tu hamein chumta tha to ghar jaakar hum der tak aaina dekhte the
Saara din ret ke ghar bante hue aur girte hue beet jaata
Shaam hote hi hum doorbeeno mein apni chhaton se khuda dekhte the
Dost kisko pata hai ki waqt uski aankhon se phir kis tarah pesh aaya
Hum ikatthe the hanste​ the rote the ek doosre ko bada dakhte the
Us ladai me dono taraf kuch sipaahi the
Jo nind me bolte the...
Jang talti nhi thi siro se magar khwaab me khafta dekhte the

Dhoop pade uspar to tum baadal ban jaana
Ab wo milne aaye to usko ghar thaharna
Tumko door se dekhte dekhte guzar rahi hai
Mar jaana par kisi gareeb ke kaam na aana

Tujhe bhi apne saath rakhta aur use bhi apna deewaana bana leta
Agar main chaahta to dil me koi chor darwaaza bana leta
Main apne khwaab poore kar ke khush hoon par ye pachhtaawa nahi jaata
Ke mustaqbil banaane se to accha tha tujhe apana bana leta
Akela aadami hoon aur achaanak aaye ho jo kuch tha haajir hai
Agar tum aane se pahle bata dete to kuch accha bana leta

Ghar me bhi dil nahi lag raha
Kaam par bhi nahi ja raha
Jaane kya khauf hai jo tujhe choom kar bhi nahin ja raha
Raat ke tin bajne ko hai yaar ye kaisa mehboob hai?
Jo gale bhi nahi lag raha aur ghar bhi nahi ja raha

Tumhe husn par dastaras hai bahot
Mohabbat vohabbat bada jante ho
To fir ye btao tum uski aankhon​ ke bare me kya jante ho?
Ye Geographiya, falsafa, psychology, science, riyazi vagerah
Ye sab janna jaruri bhi aham hai
Magar kya uske ghar ka pata jante ho?

[ Dastaras = पहुंच ( reach, access ) ] 

Thoda likha aur zyada chod diya
Aane walo ke liye rasta chod diya
Ladkiyan ishq me kitni pagal hoti hai
Phone baja, aur chulah jalta chod diya
Tum kya jaano us dariya pe kya guzri hai
Tumhne to bas pani bharna chod diya
Bas kaano par haath rakh lete thodi der
Aur phir uss awaaz ne pichha chhod diya

Tareekhiyo ko aag lage aur diya jale...
Ye rat bain karti rahe aur diya jale...
Uski jaban me itna asar hai ki nisabdh
Wo roshni ki baat kare aur diya jale
Tum chahte ho ki tumse bichad ke khush rahu
Yani hawa bhi chalti rahe or diya jale
Kya mujhse bhi aziz hai tumko diye ki lau
Phir to mera majaar bane aur diya jale
Suraj to meri aankh se aage ki chiz Hai
Mai chahta hoon saam dhale aur diya jale

[ Bain = विलाप‌ (lamentation), ]

Ek aur shakhs chhod kar chala gaya to kya hua
Hamaare saath kaun sa ye pahli martba hua
Azal se in hatheliyo Mein hijr ki lakeer thi
Tumhara dukh to jaise mere haath mein bada hua 
Mere khilaaf dushmanon ki saf mein hai wo aur main
Bahut bura lagunga uspe teer kheenchta hua

Sab parindon se pyaar loonga main
Ped ka roop dhaar loonga main
Raat bhee to gujaar lee mainne
Zindagi bhi gujaar loonga mai
Tu nishaane pe aa bhi jaye agar
Kaun sa teer maar loonga main

Usi jagah par jahan kai raaste milenge
Palat kar aaye to sabse pahle tujhe milenge
Agar kabhi tere naam par jang ho gayi to
Hum aise bujdil bhi pahle saf mein khade milege
Tujhe ye sadke mere tavassut se jaanti hain
Tujhe hamesha ye sab ishaare khule milenge

 [ Tavassut = मतलब, मध्यस्थता (means, mediation) ]

#Nazm
Mujh pe teri tamanna ka ilzam sabit na hota to sab theek tha
Zamana teri roshni ke tasalsul ki qasmein uthaata hai
Aur main tere sath reh kar bhi tareekhiyon ke tanaazur mein maara gaya
Mujh pe Nazar-e-karam kar
Mukhatib ho mujhse
Mujhe yeh bata main tera kaun hoon?
Is talluq ki kyaari mein ugte hue phool ko naam de
Mujh ko teri mohabbat pe shak to nahi
Par mere naam se tere seene mein rakhi hui eent dhadke to maano
Kab talak main teri khamoshi se yunhi apne marzi ke matlab nikalunga
Mujh ko awaz de chahe woh mere haq mein buri ho
Teri awaz sunne ki khwahish mein kaano ke parde kheenche ja rhe hain
Bolde kuch bhi jo tera jee chahe.. bol naa
Tere honton pe makdi ke jaalon ke jamne ka dukh toh barhaal mujh ko hamesha rhega
Tune chupi hi saadni thi toh izhaar hi kyun kiya tha ..?
Yeh to aise hai bachpan mein jaise kahin khelte khelte koi kisi ko 'Statue' kahe aur phir umar bhar usko mud kar na dakhe..!

 [ Tanaazur = संभावना (perspective), 
Mukhatib = पता करने के लिए (to address) ]

                                 – Tehzeeb Hafi


अब वो मेरे ही किसी दोस्त की मनकूहा है

Tehzeeb Hafi Best Poetry In hindi

मल्लाहों का ध्यान बटाकर दरिया चोरी कर लेना है
क़तरा क़तरा करके मैंने सारा चोरी कर लेना है
तुम उसको मजबूर किये रखना बाते करते रहने पर
इतनी देर में मैंने उसका लहज़ा चोरी कर लेना है
मेरे ख़ाक उड़ाने पर पाबन्दी आयत करने वालों
मैंने कौन सा आपके शहर का रास्ता चोरी कर लेना है
आज तो मैं अपनी तस्वीर को कमरे में ही भूल आया हूँ
लेकिन उसने एक दिन मेरा बटुआ चोरी कर लेना है।

जो तेरे साथ रहते हुए सौ गवार हो,
लानत हो ऐसे शख़्स पे और बेशुमार हो,
अब इतनी देर भी ना लगा,
ये हो ना कहीं तू आ चुका हो और तेरा इंतज़ार हो
मै फूल हूँ तो फिर तेरे बालो में क्यों नही हूँ
तू तीर है तो मेरे कलेजे के पार हो।
इक आस्तीन चढ़ाने की आदत को छोड़ कर
'हाफ़ी' तुम आदमी तो बहुत शानदार हो

ख़ाक ही ख़ाक थी और ख़ाक भी क्या कुछ नहीं था
मै जब आया तो मेरे घर की जगह कुछ नहीं था
क्या करूं तुझसे ख़यानत नहीं कर सकता मैं
वरना उस आंख में मेरे लिए क्या कुछ नहीं था
ये भी सच है मुझे कभी उसने कुछ ना कहा
ये भी सच है कि उस औरत से छुपा कुछ नहीं था
अब वो मेरे ही किसी दोस्त की मनकूहा है
मै पलट जाता मगर पीछे बचा कुछ नहीं था

ये किस तरह का ताल्लुक हैं आपका मेरे साथ
मुझे ही छोड़ के जाने का मशवरा मेरे साथ
यही कहीं हमें रस्तों ने बद्दुआ दी थी
मगर मैं भुल गया और कौन था मेरे साथ
वो झांकता नही खिड़की से दिन निकलता है
तुझे यकीन नहीं आ रहा तो आ मेरे साथ

ख्वाबों को आँखों से मिन्हा करती है
नींद हमेशा मुझसे धोखा करती है
उस लड़की से बस अब इतना रिश्ता है
मिल जाए तो बात वगेरा करती है

अब उस जानिब से इस कसरत से तोहफे आ रहे है
के घर में हम एक नयी अलमारिया बनवा रहे है
हमे मिलना तो इन आबादियों से दूर मिलना
उससे कहना गए वक़्तों में हम दरिया रहे है

तुझे किस किस जगह पर अपने अंदर से निकाले
हम इस तस्वीर में भी तूझसे मिल के आ रहे हैं
हजारों लोग उसको चाहते होंगे हमें क्या
के हम उस गीत में से अपना हिस्सा गा रहे है
बुरे मौसम की कोई हद नहीं तहजीब हाफी
फिजा आयी है और पिंजरों में पर मुरझा रहे हैं

जहन पर जोर देने से भी याद नहीं आता कि हम क्या देखते थे
सिर्फ इतना पता है कि हम आम लोगों से बिल्कुल जुदा देखते थे
तब हमें अपने पुरखों से विरसे में आई हुई बद्दुआ याद आई
जब कभी अपनी आंखों के आगे तुझे शहर जाता हुआ देखते थे
सच बताएं तो तेरी मोहब्बत ने खुद पर तवज्जो दिलाई हमारी
तू हमें चुमता था तो घर जाकर हम देर तक आईना देखते थे
सारा दिन रेत के घर बनते हुवे और गिरते हुवे बीत जाता
शाम होते ही हम दूरबीनो में अपनी छतों से खुदा देखते थे
दोस्त किसको पता है की वक़्त उसकी आँखों से फिर किस तरह पेश आया
हम इकट्ठे थे हंसते​ थे रोते थे एक दूसरे को बड़ा दखते थे
उस लड़ाई में दोनों तरफ कुछ सिपाही थे
जो नींद में बोलते थे...
जंग टलती नहीं थी सिरो से मगर ख्वाब में खाफ्ता देखते थे

धुप पड़े उसपर तो तुम बादल बन जाना
अब वो मिलने आये तो उसको घर ठहरना
तुमको दूर से देखते देखते गुज़र रही है
मर जाना पर किसी गरीब के काम न आना

तुझे भी अपने साथ रखता और उसे भी अपना दीवाना बना लेता
अगर मैं चाहता तो दिल मे कोई चोर दरवाज़ा बना लेता
मैं अपने ख्वाब पूरे कर के खुश हूँ पर ये पछतावा नही जाता
के मुस्तक़बिल बनाने से तो अच्छा था तुझे अपना बना लेता
अकेला आदमी हूँ और अचानक आये हो
जो कुछ था हाजिर है
अगर तुम आने से पहले बता देते तो कुछ अच्छा बना लेता

घर में भी दिल नहीं लग रहा
काम पर भी नहीं जा रहा
जाने क्या ख़ौफ़ है जो तुझे चूम कर भी नहीं जा रहा
रात के तीन बजने को है यार ये कैसा मेहबूब है?
जो गले भी नहीं लग रहा और घर भी नहीं जा रहा

तुम्हें हुस्न पर दस्तरस है बहोत
मोहब्बत वोहब्बत बड़ा जानते हो
तो फिर ये बताओ कि तुम उसकी आंखों के बारे में क्या जानते हो?
ये ज्योग्राफिया, फ़लसफ़ा, साइकोलाॅजी, साइंस, रियाज़ी वगैरह
ये सब जानना भी अहम है मगर उसके घर का पता जानते हो?

थोड़ा लिखा और ज़्यादा छोड़ दिया
आने वालों के लिए रास्ता छोड़ दिया
लड़कियां इश्क़ में कितनी पागल होती है
फ़ोन बजा, और चुल्ला जलता छोड़ दिया
तुम क्या जानो उस दरिया पे क्या गुजरी है
तुमने तो बस पानी भरना छोड़ दिया
बस कानों पर हाथ रख लेते थोड़ी देर
और फिर उस आवाज़ ने पीछा छोड़ दिया

तारीखियो को आग लगे और दीया जले
ये रात बैन करती रहे और दीया जले
उसकी जबान में इतना असर है की निशब्द
वो रौशनी की बात करे और दीया जले
तुम चाहते हो कि तुमसे बिछड़ के खुश रहो
यानि हवा भी चलती रहे और दीया जले
क्या मुझसे भी अज़ीज़ है तुमको दीए की लौ
फिर तो मेरा मज़ार बने और दीया जले
सूरज तो मेरी आँख से आगे की चीज़ है
मै चाहता हूँ शाम ढले और दीया जले

एक और शख़्स छोड़कर चला गया तो क्या हुआ?
हमारे साथ कौन सा ये पहली मर्तबा हुआ
अज़ल से इन हथेलियों में हिज्र की लकीर थी
तुम्हारा दुःख तो जैसे मेरे हाथ में बड़ा हुआ
मेरे खिलाफ दुश्मनों की सफ़ में है वो और मैं
बहुत बुरा लगूँगा उसपर तीर खींचता हुआ

सब परिंदों से प्यार लूँगा मैं
पेड़ का रूप धार लूँगा मैं
रात भी तो गुजार ली मैंने
जिन्दगी भी गुजार लूंगा मै
तू निशाने पे आ भी जाए अगर
कौन सा तीर मार लूँगा मैं

उसी जगह पर जहां कई रास्ते मिलेंगे
पलट के आए तो सबसे पहले तुझे मिलेंगे
अगर कभी तेरे नाम पर जंग हो गई तो
हम ऐसे बुजदिल भी पहले सफ में खड़े मिलेगे
तुझे ये सड़के मेरे तवस्सुत से जानती हैं
तुझे हमेशा ये सब इशारे खुले मिलेंगे

#नज़्म
मुझ पे तेरी तमन्ना का इल्ज़ाम साबित न होता तो सब ठीक था
ज़माना तेरी रौशनी के तसलसुल की क़समें उठाता है
और में तेरे साथ रह कर भी तारीखियों
के तनज़ूर में मारा गया
मुझ पे नज़र-ए-करम कर
मुखातिब हो मुझसे
मुझे ये बता मैं तेरा कौन हूँ?
इस ताअल्लुक़ की क्यारी में उगते हुए फूल को नाम दे
मुझ को तेरी मोहब्बत पे शक तो नहीं
पर मेरे नाम से तेरे सीने में रखी हुई ईंट धड़के तो मानो
कब तलक मैं तेरी ख़ामोशी से यूंही अपने मर्ज़ी के मतलब निकालूँगा
मुझ को आवाज़ दे चाहे वो मेरे हक़ में बुरी हो
तेरी आवाज़ सुनने की ख्वाहिश में कानों के परदे खींचे जा रहे हैं
बोलदे कुछ भी जो तेरा जी चाहे.. बोल ना!
तेरे होंठों पे मकड़ी के जालों के जमने का दुःख तो बरहाल मुझ को हमेशा रहेगा
तूने चुपी ही सादनी थी तो इज़हार ही क्यों किया था ..?
ये तो ऐसे है बचपन में जैसे कहीं खेलते खेलते कोई किसी को 'स्टेचू' कहे और फिर उम्र भर उसको मुड़ कर न देखे..!

                                          – Tehzeeb Hafi


Tehzeeb Hafi Best Poetry Video