The beautiful poem 'Tera Intezaar Ab Bhi Hai' has written and performed by Paridhi Goel on the stage of The Social House.


Tera Intezaar Ab Bhi Hai

Hum shaayaron ki duniya ka itna sa fasaana hai
Jo dil mein aata hai pannon par bikhar jaana hai

Meri daayari ke panne kuch is andaaz mein padhe usne 
Yoon laga kambakht aaj hi saari shikaayaten door kar dega  

Ki tu zindagi ki kashamkash mein itna madhosh hai
Tune suna hi nahin wo shor mere andar, jo bahut khaamosh hai

Jaane kyon khuda se ek darkaar ab bhi hai
Mujhe tere Waapas aane ka intezaar ab bhi hai
Tujhe waapas paana chaahati bhi hoon aur nahin bhi
Kyonki tumse shikaayaten hazaar ab bhi hai
Mujhe tere Waapas aane ka intezaar ab bhi hai

Bhale hi milte na ho ek doosre se ab hum
Par tere dil se jude mere dil ke taar ab bhi hai
Sab kuch chhoot gaya jaana, tujhe paane ki chaahat mein
Meri is barbaadi ka jimmedaar tu ab bhi hai
Mujhe tere Waapas aane ka intezaar ab bhi hai

Ek arsa beet gaya humein mile hue
Par aankhon mein tera deedaar ab bhi hai
Ab to Hello, Hii bhee nahin hoti whatsapp par
Par mujhe tera last seen dekhna baar-baar ab bhi hai
Mujhe tere Waapas aane ka intezaar ab bhi hai

Dil karta hai ki tu bhaag kar aaye aur mujhe gale laga le
Teri baahon mein us jannat ka ehasaas ab bhi hai
Wo har lamha jo bitaaya hai tere sang maine
Mujhe uska nasha, uska khoomaar ab bhi hai
Mujhe tere Waapas aane ka intezaar ab bhi hai

Tu bhi chaahta hai mujhe waapas paana ye jaanati hoon
Magar mere hothon par ye jhootha inkaar ab bhi hai
Dimaag kahta hai aksar mat sun dil ki,
Magar main kya karoon mere dil ko tumse pyaar ab bhi hai
Mujhe tere Waapas aane ka intezaar ab bhi hai

                                      - Paridhi Goel


Tera Intezaar Ab Bhi Hai In Hindi

हम शायरों की दुनिया का इतना सा फ़साना है
जो दिल में आता है पन्नों पर बिखर जाना है

मेरी डायरी के पन्ने कुछ इस अंदाज में पढ़ें उसने 
यूं लगा कमबख्त आज ही सारी शिकायतें दूर कर देगा

कि तू जिंदगी की कशमकश में इतना मदहोश है
तूने सुना ही नहीं वो शोर मेरे अंदर, जो बहुत खामोश है

जाने क्यों खुदा से एक दरकार अब भी है
मुझे तेरे वापस आने का इंतजार अब भी है
तुझे वापस पाना चाहती भी हूं और नहीं भी
क्योंकि तुमसे शिकायतें हजार अब भी है
मुझे तेरे वापस आने का इंतजार अब भी है

भले ही मिलते ना हो एक दूसरे से अब हम
पर तेरे दिल से जुड़े मेरे दिल के तार अब भी है
सब कुछ छूट गया जाना, तुझे पाने की चाहत में
मेरी इस बर्बादी का जिम्मेदार तू अब भी है
मुझे तेरे वापस आने का इंतजार अब भी हैं

एक अरसा बीत गया हमें मिले हुए
पर आंखों में तेरा दीदार अब भी है।
अब तो हैलो, हाय भी नहीं होती व्हाट्सएप पर
पर मुझे तेरा लास्ट सीन देखना बार-बार अब भी है
मुझे तेरे वापस आने का इंतजार अब भी है

दिल करता है कि तू भाग कर आए और मुझे गले लगा ले
तेरी बाहों में उस जन्नत का एहसास अब भी है
वो हर लम्हा जो बिताया है तेरे संग मैंने
मुझे उसका नशा उसका खूमार अब भी है
मुझे तेरे वापस आने का इंतजार अब भी है

तू भी चाहता है मुझे वापस पाना ये जानती हूं
मगर मेरे होठों पर ये झूठा इंकार अब भी है
दिमाग कहता है अक्सर मत सुन दिल की
मगर मैं क्या करूं मेरे दिल को तुमसे प्यार अब भी है
मुझे तेरे वापस आने का इंतजार अब भी है।

                                        - परिधि गोयल