This beautiful Poetry 'Sab Sambhaal Lete Hain Hum' has written and performed by Zakir Khan.

Sab Sambhal Lete Hai Poetry :- A beautiful poetry Sab Sambhal Lete Hai by Zakir Khan. Zakir Khan very beautifully describe and tell us the point of view of man's reality actually what is, by his poetry. So if you want know this thing then you must should read this beautiful poetry Sab Sambhal Lete Hai.


Poetry Title – Sab Sambhal Lete Hai
Written By – Zakir Khan
Label - Zakir Khan official


Sab Sambhal Lete Hain Hum Poetry By Zakir Khan

Sab sambhaal leta hoon main
Bhai ki ladaai ho ya dost ke pachde
Girlfriend ka ex ho
Ya uske ghar ke baahar nukkad par khade fukare
Sab sambhaal lete hain hum

Haathon ka plaster ho ya chhile hue ghutne,
Gire ho bike se ya khade ho teacher  se peetane
Ab bahan toh bidaai pe ro legi
Par hum nahi royenge
Chaar din ki road trip hai
Par hum wheel pe nahin soyenge
Ek chhota sa kissa bhi ho jaaye 
Toh use badha chadha ke sunayenge
Par jab dil tootega na
Toh apne doston ko bhi nahin batayenge
Kyonki sab sambhaal lete hain hum

Kya hai na ki daaru ki capacity se humaari aukaat naapi jaati hai
Par sabko ghar chhodne ki zimmedaari  bhi humaare hisse hi aati hai
Kisi film ki sad ending ho ya best friend  ka foreign jaane ka farewell, soft nahin hote hain
Agar gussa aata to aaj abhi
Par pyaar jataane waala sab kuch kal

Kya hai na kyonki macho itne hai
Par sensitive topic pe thode gadbad ho jaate hain
Yaar apan log to mummy ko hug karne mein bhi awkward ho jaate hai
Ghar ki financial problem ho ya kisi ki tabiyat kharaab
Papa ki social standing ho ya safety  security ka sawaal
Sab sambhaal lete hain hum
Hum wo hai jo footpath par baahar ki taraf chalte hai
Saaya bante hai pariwaar ka par dhoop mein khud palte hai
Kabhi humaari bhi mardaangi ka parda hata kar dekhna
Kabhi thaamna humaara bhi haath
Kaise ho tum?.. poochhna!
Kyonki yaar humaari bhi sakht shaklon ke peechhe
Ek maasoom sa bachcha hai ji
Jiski khwahishein ghar, gaadi, aasmaan nahin
Apnapan sachcha hai ji
Hume bhi dar lagta hai akele andhere kamron mein
Hum bhi so nahin sakte
Aur sach kahoon toh jhoothe hai wo log jo kahte hain ki aadami ro nahin sakte

Baaki haan iske alawa sab sambhaal lete hain hum
Bhai ki ladaai ho ya dost ke pachde
Girlfriend ka ex ho
Ya uske ghar ke baahar nukkad par khade fukare
Sab sambhaal lete hain hum

                                       - Zakir Khan

Sab Sambhaal Lete Hain Hum In Hindi

सब संभाल लेता हूं मैं
भाई की लड़ाई हो या दोस्त के पचड़े
गर्लफ्रेंड का ex हो
या उसके घर के बाहर नुक्कड़ पर खड़े फुकरे
सब संभाल लेते हैं हम

हाथों का प्लास्टर हो या छिले हुए घुटने
गिरे हो बाइक से या खड़े हो टीचर से पीटने
अब बहन तो विदाई पे रो लेगी
पर हम नही रोयेंगे
चार दिन की रोड ट्रिप है
पर हम व्हील पे नहीं सोयेंगे
एक छोटा सा किस्सा भी हो जाये
तो उसे बढ़ा चढ़ा के सुनाएंगे
पर जब दिल टूटेगा ना
तो अपने दोस्तों को भी नहीं बताएँगे
क्योंकि सब संभाल लेते हैं हम

क्या है ना कि दारु की capacity से हमारी
औकात नापी जाती है
पर सबको घर छोड़ने की ज़िम्मेदारी
भी हमारे हिस्से ही आती है
किसी फिल्म की sad ending हो
या best friend का foreign जाने का farewell, soft नहीं होते हैं
अगर गुस्सा आता तो आज अभी
पर प्यार जताने वाला सब कुछ कल
क्या है ना क्योंकि माचो इतने है
पर sensitive topic पे थोड़े गड़बड़ हो जाते हैं
यार अपन लोग तो मम्मी को hug करने में भी
awkward हो जाते है

घर की financial problem हो
या किसी की तबियत ख़राब
पापा की social standing हो
या safety security का सवाल
सब संभाल लेते हैं हम

हम वो है जो फूटपाथ पर बाहर की तरफ चलते है
साया बनते है परिवार का पर धुप में खुद पलते है
कभी हमारी भी मर्दानगी का पर्दा हटा कर देखना
कभी थामना हमारा भी हाथ
कैसे हो तुम?... पूछना!
क्योंकि यार हमारी भी सख्त शक्लों के पीछे
एक मासूम सा बच्चा है जी
जिसकी ख्वाहिशें घर, गाड़ी, आसमान नहीं
अपनापन सच्चा है जी
हमे भी डर लगता है
अकेले अँधेरे कमरों में हम भी सो नहीं सकते
और सच कहूँ तो झूठे है वो लोग
जो कहते हैं की आदमी रो नहीं सकते

बाकी हाँ इसके अलावा सब संभाल लेते हैं हम
भाई की लड़ाई हो या दोस्त के पचड़े
गर्लफ्रेंड का ex हो
या उसके घर के बाहर नुक्कड़ पर खड़े फुकरे
सब संभाल लेते हैं हम

                                            - जाकिर खान



Sab Sambhaal Lete Hain Hum In English

Coming very soon....


Sab Sambhaal Lete Hai Video Zakir Khan