This love Poetry 'Phir Kab Aaogey' has written and performed by Sainee Raj under the label of Spill Poetry



 About this Poetry: 
This love Poetry 'Phir Kab Aaogey' has written and performed by Sainee Raj under the label of Spill Poetry.

Phir Kab Aaogey

Sard, garm, gila 
Mausam ka rukh badla 
Bikhre waadon ko maine kas kar pakda 
Dard ne maazi se yaade udhaar mangawayi 
Neele aasmaan mein chaand ne apni shakl dikhayi 
Par tum na aaye... 

Saal sadiyon se lambi lage 
Aankhen jali intzaar karte-karte Jhurriyon ne hothon ke kareeb angdai li 
Haathon ki rekhaon ne bhi apna raasta badla
Par tum na aaye... 

Makaan ki deevaaron par papdi ne nakshe banaaye 
Maanon jaise mere kayi raaj inme dafan ho 
Jaalon se pankhon ka wajan kuchh aur badha 
Hawa bhi kayi dafe khidki khol ke aa gayi 
Par tum na aaye... 

Phir waqt ne aisa khel khela
Dard bhi dukh dukh kar thak gaya
Girkar sambhalna humne bhi seekh liya 
Aur ek din achaanak... 
Tum aa gaye..!!

Birha ki raaton ne dekha 
mej par pade bakse mein se 16 shringaaron ne aawaaj lagayi 
Dil maano halak tak ki sair par nikal pada ho 
Is martba jaane kya tabaahi machaaoge 
Ab aa hi gaye ho to ghar ke andar nahin aaoge? 

Suji aankhon se tumhaara deedaar kiya 
Tum ek baar pyaar se dekh lo ye intzaar kiya 
Harfo ne lafzon ka saath yoon chhoda ki jo jumle maine taiyaar kiye the 
Ki ek din tum par barsaaungi 
Tum sunoge aur main sunaaungi
Ladungi, tumhen noch khaungi 
Aur phir jab thak kar haar jaungi 
Tab tumhen ashkon se apne kisse sunaungi 
Wo jumle jabaan par hi chipak gaye
Ab tum saamne ho aur alfaaz mujhse bahut door 
Aankhon mein nami hai 
Aag donon taraf lagi hai 
Main ab bhi naraazgi ka daaman thaamen baithi hoon 
Tumne ab tak joote nahin utaare 
Is baar to ruk ke jaoge 
Bataao phir kab aaogey?



Phir Kab Aaogey In Hindi

सर्द, गर्म, गिला
मौसम का रुख बदला 
बिखरे वादों को मैंने कस कर पकड़ा
दर्द ने माजी से यादे उधार मंगवाई
नीले आसमान में चांद ने अपनी शक्ल दिखाई
पर तुम ना आए... 

साल सदियों से लंबी लगे
आंखे जली इंतजार करते-करते
झुर्रियों ने होठों के करीब अंगड़ाई ली 
हाथों की रेखाओं ने भी अपना रास्ता बदला
पर तुम ना आए...

मकां की दीवारों पर पपड़ी ने नक्शे बनाए 
मानों जैसे मेरे कई राज इनमें दफन हो 
जालों से पंखों का वजन कुछ और बड़ा 
हवा भी कई दफे खिड़की खोल के आ गई 
पर तुम ना आए...

फिर वक्त ने ऐसा खेल खेला
दर्द भी दुख दुख कर थक गया 
गिरकर संभलना हमने भी सीख लिया
और एक दिन अचानक...
तुम आ गए..!!

बिरहा की रातों ने देखा 
मेज पर पड़े बक्से में से 16 श्रृंगारों ने आवाज लगाई 
दिल मानो हलक तक की सैर पर निकल पड़ा हो
इस मर्तबा जाने क्या तबाही मचाओगे अब 
आ ही गए हो तो घर के अंदर नहीं आओगे? 

सुजी आंखों से तुम्हारा दीदार किया 
तुम एक बार प्यार से देख लो ये इंतजार किया 
हर्फो ने लफ्जों का साथ यूं छोड़ा की जो जुमले मैंने तैयार किए थे 
कि एक दिन तुम पर बरसाऊंगी 
तुम सुनोगे और मैं सुनाऊंगी 
लडूंगी, तुम्हें नोच खाऊंगी 
और फिर जब थक कर हार जाऊंगी 
तब तुम्हें अश्कों से अपने किस्से सुनाऊंगी

वो जुमले जबान पर ही चिपक गये। 
अब तुम सामने हो और अल्फ़ाज़ मुझसे बहुत दूर
आंखों में नमी है
आग दोनों तरफ लगी है
मैं अब भी नाराजगी का दामन थामें बैठी हूं
तुमने अब तक जूते नहीं उतारे 
इस बार तो रूक के जाओगे 
बताओ फिर कब आओगे?

                                         – Sainee Raj