This Beautiful Poem 'Mujh Jaisi Ladki' Has written and Performed by Sainee Raj on the stage of 'UnErase Poetry'.


 About this poem: 
This Beautiful Poem 'Mujh Jaisi Ladki' Has written and Performed by Sainee Raj on the stage of 'UnErase Poetry'.


Mujh Jaisi Ladki Poetry

Akeli khoyi khoyi si, woh alhad ladki 
Ishq mein jaagi-soyi si diwaani ladki
Kaanon mein jhumke, chaal mein angdaai
Ek diwaane se dil lagaayi
Sab ne kaha paagal ho gayi hai paagal ladki
 Ishq mein jaagi-soyi si diwaani ladki

 Naa duniya ki samajh, naa sahi aur galat ka fark
 Ishq ke rang se rang diya apne dil ka warak
Naa tajurba naa samajhdaari, badi kamsin thi woh
Toofaan mein kashti utaare, badi maasoom thi woh
Ishq ki kamaai se ghar-ghar khelti
Apni dhun mein mast, woh meera si ladki
Chaand se dil laga kar zameen se wafaayein maangti
Hawaaon se ladane waali, woh patang si ladki

Jab aankh khuli to thi nahin woh ab bhi wahi chhoti si ladki
Dil ko hatheli par paros kar dene waali, woh bholi si ladki
 Kahte hain...kuch bhaari sa gujra tha uske naram se seene ke upar se
Ab zara naaptol kar hansti hai, woh manmauji si ladki
Haqeeqat darwaaje par dastak de rahi thi
Bhala palak jhapkaati toh kiske liye, woh sapanon jaisi ladki

Samet kar apni aabroo phir kalam uthaaegi
Khud apni kahaani likhegi, woh ziddi si ladki
Purja purja kar jodegi apna seena
 Himmat kar phir dil lagaaegi, woh diler ladki
lafzon ko dhaal banaakar har makaan paaegi
 Khud hi khud se baaten karne waali, woh kitaabon si ladki
 Teekhi si meethi si woh hirani si ladki
Aaine mein dekho to mujh jaisi hi woh, mujh jaisi ladki.

                                                 – Sainee Raj



More poetries by Sainee Raj :-


Mujh Jaisi Ladki Poetry In Hindi

अकेली खोई खोई सी वो अल्हड़ लड़की
इश्क में जागी-सोई सी दीवानी लड़की
कानों में झुमके, चाल में अंगड़ाई
एक दीवाने से दिल लगायी
सब ने कहा पागल हो गई है पागल लड़की
इश्क में जागी-सोई सी दीवानी लड़की

ना दुनिया की समझ,
ना सही और गलत का फर्क
इश्क के रंग से रंग दिया अपने दिल का वरक
ना तजुर्बा न समझदारी, बड़ी कमसिन थी वो
तूफान में कश्ती उतारे, बड़ी मासूम थी वो
इश्क की कमाई से घर-घर खेलती
अपनी धुन में मस्त, वो मीरा सी लड़की
चांद से दिल लगा कर जमीन से वफाएं मांगती
हवाओ से लड़ने वाली, वो पतंग सी लड़की

जब आंख खुली तो थी नहीं वो अब भी वही
छोटी सी लड़की
दिल को हथेली पर परोस कर देने वाली, वो भोली सी लड़की
कहते हैं... कुछ भारी सा गुजरा था उसके नरम से
सीने के ऊपर से
अब जरा नापतोल कर हंसती है, वो मनमौजी सी लड़की
हकीकत दरवाजे पर दस्तक दे रही थी
भला पलक झपकाती तो किसके लिए, वो सपनों जैसी लड़की

समेट कर अपनी आबरू फिर कलम उठाएगी
खुद अपनी कहानी लिखेगी, वो ज़िद्दी सी लड़की
पुर्जा पुर्जा कर जोड़ेगी अपना सीना
हिम्मत कर फिर दिल लगाएगी, वो दिलेर लड़की
लफ्जों को ढाल बनाकर हर मकां पाएगी
खुद ही खुद से बातें करने वाली, वो किताबों सी लड़की
तीखी सी मीठी सी वो हिरनी सी लड़की
आईने में देखो तो मुझ जैसी ही वो, मुझ जैसी लड़की।

                                                 – सैनी राज़


'Mujh Jaisi Ladki' Poem Video