Meri Nigaah Mein Wo Shakhs Aadmi Bhi Nahi In Hindi

तजल्लियों का नया दायरा बनाने में 
मेरे चिराग लगे हैं हवा बनाने में 

अड़े थे ज़िद पे के सूरज बनाके छोड़ेंगे 
पसीने छूट गए एक दीया बनाने में 

मेरी निगाह में वो शख्स आदमी भी नहीं 
जिसे लगा है ज़माना खुदा बनाने में 

अभी इन्हें न परेशान करो मसीहाओं 
मरीज़ उलझे हुए हैं दवा बनाने में 

तमाम उम्र मुझे दर-ब-दर जो करते रहे
लगे हुए हैं मेरा मक़बरा बनाने में

ये चंद लोग जो बस्ती में सबसे अच्छे है
इन्ही का हाथ है मुझको बुरा बनाने बनाने।

                                        - राहत इंदौरी

Meri Nigaah Mein Wo Shakhs Aadmi Bhi Nahi

Tajalliyon ka naya daayra banaane mein 
Mere chiraag lage hain hawa banaane mein 

Ade the zid pe ke suraj banaake chhodenge 
Paseene chhoot gaye ek diya banaane mein

Meri nigaah mein wo shakhs aadmi bhi nahi 
Jise laga hai zamaana khuda banaane mein 

Abhi inhein na pareshaan karo masihaaon 
Mareez uljhe hue hain dawa banaane mein 

Tamaam umr mujhe dar-ba-dar jo karte rahe 
Lage hue hain mera maqbara banaane mein
Ye chand log jo basti mein sabse achhe hain 
Inhi ka haath hai mujhko bura banaane mein

                                           - Rahat Indori 

                                

This Ghazal Video