This Beautiful Poetry 'Main Khaak Hi Toh Hoon' has written and performed by Zubair Ali Tabish on Jashn-e-Urdu.


Main Khaak Hi Toh Hoon

Main kya bataun wo kitna kareeb hai mere 
Mera khyaal bhi usko sunaai deta hai 
Wo jisne aankh ataa ki hai dekhne ke liye
Usi ko chhodkar sab kuch dikhaai deta hai.

Isi khushi ne mera dam nikaal rakha hai 
Ki usne ab bhi mera gham sambhaal rakha hai 
Main khaak hi to hun aakhir, mera banega kya? 
Mujhe kumhaar ne chakkar mein daal rakha hai

Ro kar apni har zid manwa sakta hoon 
Main paani se patthar pighla sakta hoon 
Shukr hai koi chaadar mere paas nahin jitne marzi paanv faila sakta hoon
Mujhko itni dhum se rukhsat mat kijiye
Mera kya, main wapas bhi aa sakta hoon

Paheli zindagi ki kab tu ae nadan samjhega 
Bahut dushwariyan hongi agar aasan samjhega 
Kisi bhuke se mat puchho 
Mohabbat kis ko kahte hain 
Ki tum aanchal bichhaoge 
Wo dastar-Khwan samjhega

Is zamaane ko zamaane ki ada aati hai
Aur ek hum hai, humein sirf wafa aati hai
Chudiyaan bech ke wo mere liye laayi guitar
Taar chhedu toh khankne ki sada aati hai

Kore kagaj pe ro rahe ho tum
Humein toh laga tha ki padhe likhe ho tum
Kya kaha ?... Humse dur jaana hai ??
Iska matlab hai ja chuke ho tum

Sar-ba-sar zakhm ki misaal hoon main
Fir bhi hans leta hu kamaal hoon main
Der kar di, jawaab mein tumne
Ab kisi aur ka sawaal hoon mai...!!!

Khaali baithe ho to ek kaam mera kar do na, 
Mujhko accha sa koi jakhm ataa kar do na
Dhyaan se panchhiyon ko dete ho daana paani, 
Itne acche ho to pinjre se riha kar do na 
Jab kareeb aa hi gaye ho to udaasi kaisi? 
Jab diya de hi rahe ho to jalakar, do na

Sitam dhaahte hue, socha karoge? 
Humaare saath tum aisa karoge?
Anguthi to mujhe lauta rahe ho 
Anguthi ke nishaan ka kya karoge? 
Main tumse ab jhagdta bhi nahin hun 
Toh kya is baat par jhagda karoge?
Wo dulhan banke rukhsat ho gayi hai
Kahan tak Car ka pichha karoge? 


Main Khaak Hi Toh Hoon In Hindi

मैं क्या बताऊं वो कितना करीब है मेरे 
मेरा ख्याल भी उसको सुनाई देता है 
वो जिसने आंख अता की है देखने के लिए 
उसी को छोड़कर सब कुछ दिखाई देता है

इसी खुशी ने मेरा दम निकाल रखा है 
कि उसने अब भी मेरा गम संभाल रखा है 
मैं खाक ही तो हूं आखिर, मेरा बनेगा क्या? 
मुझे कुम्हार ने चक्कर में डाल रखा है

रो कर अपनी हर ज़िद मनवा सकता हूँ 
मैं पानी से पत्थर पिघला सकता हूँ 
शुक्र है कोई चादर मेरे पास नहीं 
जितने मर्जी पांव फैला सकता हूँ 
मुझको इतनी धुम‌ से रूखसत मत किजिए
मेरा क्या, मैं वापस भी आ सकता हूं

पहेली ज़िंदगी की कब तू ऐ नादान समझेगा 
बहुत दुश्वारियाँ होंगी अगर आसान समझेगा 
किसी भूखे से मत पूछो 
मोहब्बत किस को कहते हैं 
कि तुम आँचल बिछाओगे 
वो दस्तर-ख़्वान समझेगा

इस ज़माने को ज़माने की अदा आती है 
और एक हम है, हमें सिर्फ वफ़ा आती है
चूडियां बेच के वो मेरे लिए लायी गिटार 
तार छेड़ू तो खनकने की सदा आती है

कोरे कागज पे रो रहे हो तुम 
हमें तो लगा था कि पढ़े लिखे हो तुम 
क्या कहा ?... हमसे दूर जाना है?? 
इसका मतलब है जा चुके हो तुम

सर-ब-सर ज़ख्म की मिसाल हूँ मैं 
फिर भी हँस लेता हूँ कमाल हूँ मैं 
देर कर दी, जवाब में तुमने 
अब किसी और का सवाल हूँ मै

खाली बैठे हो तो एक काम मेरा कर दो ना, 
मुझको अच्छा सा कोई जख्म़ अता कर दो ना
ध्यान से पंछियों को देते हो दाना पानी, 
इतने अच्छे हो तो पिंजरे से रिहा कर दो ना। 
जब करीब आ ही गए हो तो उदासी कैसी? 
जब दीया दे ही रहे हो तो जलाकर, दो ना।

सितम ढाहते हुए, सोचा करोगे? 
हमारे साथ तुम ऐसा करोगे
अंगूठी तो मुझे लौटा रहे हो 
अंगूठी के निशाँ का क्या करोगे? 
मैं तुमसे अब झगड़ता भी नहीं हूं 
तो क्या इस बात पर झगड़ा करोगे?
वो दुल्हन बनके रुखसत हो गई है
कहां तक कार का पीछा करोगे? 

                               – Zubair Ali Tabish