This beautiful Ghazal '  Wo Agar Bewafa Nahi Hota' has written by Bashir Badr.


Wo Agar Bewafa Nahi Hota


Koi kaanta chubha nahi hota
Dil agar phool sa nahi hota

Main bhi shayad bura nahi hota
Wo agar bewafa nahi hota

Bewafa bewafa nahi hota
Khatam ye faasla nahi hota

Kuch to majburiya rahi hongi
Yoon koi bewafa nahi hota

Jee bahut chahta hai sach bole
Kya kare hausla nahi hota

Raat ka intzaar kaun kare
Aaj kal din me kya nahi hota

Guftgoo un se roz hoti hai
Muddato saamna nahi hota

                                    – Bashir Badr


Wo Agar Bewafa Nahi Hota In Hindi

कोई काँटा चुभा नहीं होता
दिल अगर फूल सा नहीं होता

मैं भी शायद बुरा नहीं होता
वो अगर बेवफ़ा नहीं होता

बेवफ़ा बेवफ़ा नहीं होता
ख़त्म ये फ़ासला नहीं होता

कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता

जी बहुत चाहता है सच बोलें
क्या करें हौसला नहीं होता

रात का इंतज़ार कौन करे
आज-कल दिन में क्या नहीं होता

गुफ़्तगू उन से रोज़ होती है
मुद्दतों सामना नहीं होता

                                          – बशीर बद्र