This beautiful love poetry 'Tumhari Kuch Taarife' has written and performed by very young talented poet Yahya Bootwala.


This beautiful love poetry 'Tumhari Kuch Taarife' has written and performed by very young talented poet Yahya Bootwala.

Tumhari Kuch Taarife

Ki vinaash ke baad ke nirmaan mein li hui zindagi ki pahli saans si lagti ho tum 
Ki jiske hone se hi sukoon mil jaata 
Aur jiska na hona har cheez ko bematlab bana deta hai
Chaadar ki silawton mein chhupe raaj si lagti ho tum 
Sulajhne pe bhi kahaan meri nishaaniyaan bhula paati ho tum 
Har karwat par mere sang lipatati chali jaati ho 
Jitna lipte sang utni hi mushkil, judaai kar jaati ho 
Meri kalam jo koshish karke bhi bayaan na kar paye, 
Tum aise kisi qisse si lagti ho 

Kyon kaid karoon tumhein kaagaj mein
Tum lakeeron ki bandish se aazaad hi achhi lagti ho 
Jevar si pahanti ho tum apni har ada
Bindi mein saadagi aur jhumko mein meri jaan lagti ho 
Waise to ye duniya hai tumhare kadamon ki dhool baraabar 
Tum phir bhi ise paayal si pahanti ho 
Kho ke jise jannat bhi zameen se jalta hai
Tum khuda ki us afsos si lagti ho 

Kyon na rakhoon tumhein taaron ke darje pe 
Aakhir tum sab ki khwaahish mein jo rahti ho 
Tum aasmaan si aazaad lagti ho 
Mere zameen ki ummeedon ke liye zaroori ho 
Log kahte hain ki donon milte hain ek jagah 
Main jaanta hoon use najaron ka dhokha kahte hain. 
Main phir bhi us dhokhe pe tumhara intzaar karta hoon.

                                        – Yahya Bootwala


Tumhari Kuch Taarife In Hindi

कि विनाश के बाद के निर्माण में ली हुई जिंदगी की पहली सांस सी लगती हो तुम 
कि जिसके होने से ही सुकून मिल जाता 
और जिसका ना होना हर चीज को बेमतलब बना देता है
चादर की सिलवटों में छुपे राज सी लगती हो तुम 
सुलझने पे भी कहां मेरी निशानियां भुला पाती हो तुम
हर करवट पर मेरे संग लिपटती चली जाती हो 
जितना लिपटे संग उतनी ही मुश्किल, जुदाई कर जाती हो 
मेरी कलम जो कोशिश करके भी बयां ना कर पाए 
तुम ऐसे किसी क़िस्से सी लगती हो

क्यों कैद करूं तुम्हें कागज में 
तुम लकीरों की बंदिश से आजाद ही अच्छी लगती हो 
जेवर सी पहनती हो तुम अपनी हर अदा 
बिंदी में सादगी और झुमको में मेरी जान लगती हो
वैसे तो ये दुनिया है तुम्हारे कदमों की धूल बराबर 
तुम फिर भी इसे पायल सी पहनती हो 
खो के जिसे जन्नत भी जमीन से जलता है 
तुम खुदा की उस अफसोस सी लगती हो 

क्यों ना रखूं तुम्हें तारों के दर्जे पे
आखिर तुम सब की ख्वाहिश में जो रहती हो
तुम आसमां सी आजाद लगती हो 
मेरे जमीं की उम्मीदों के लिए जरूरी हो
लोग कहते हैं कि दोनों मिलते हैं एक जगह
मैं जानता हूं उसे नजरों का धोखा कहते हैं।
मैं फिर भी उस धोखे पे तुम्हारा इंतजार करता हूं।

                                               – याहया बूटवाला