This Beautiful Ghazal 'Mere Saath Tum Bhi Dua Karo' has written by Bashir Badr.


Mere Saath Tum Bhi Dua Karo

Mere saath tum bhi dua karo yoon kisi ke haq me bura na ho
Kahi aur ho na ye haadsa koi raaste me juda na ho

Mere ghar se raat ki sez tak wo ik aansoo ki laqeer hai
Zara badh ke chaand se punchana wo is taraf se gaya na ho

Sar-e-sham thari hui zameen, aasman hai jhuka hua
Isi mod par mere waaste wo charaag le kar khada na ho

Wo fariste aap hi dhundhiye kahaniyon ki kitab me
Jo bura kahe na bura sune koi shakhs un se khafa na ho

Wo visaal ho ke firaaq ho teri aag mahkegi ek din
Wo gulaab ban ke khilega kya jo charaag ban ke jala na ho

Mujhe yoon laga ki khaamosh khusboo ke honth titali ne chhu liye
Inhi zard patton ki oat me koi phool soya hua na ho

Isi ehtiyaat me main raha, isi ehtiyaat me wo raha
Wo kahan kahan mere sath hai kisi aur ko ye pata na ho

                                      – Bashir Badr


मेरे साथ तुम भी दुआ करो (In Hindi)

मेरे साथ तुम भी दुआ करो यूँ किसी के हक़ में बुरा न हो
कहीं और हो न ये हादसा कोई रास्ते में जुदा न हो

मेरे घर से रात की सेज तक वो इक आँसू की लकीर है
ज़रा बढ़ के चाँद से पूछना वो इसी तरफ़ से गया न हो

सर-ए-शाम ठहरी हुई ज़मीं, आसमाँ है झुका हुआ
इसी मोड़ पर मेरे वास्ते वो चराग़ ले कर खड़ा न हो

वो फ़रिश्ते आप ही ढूँढिये कहानियों की किताब में
जो बुरा कहें न बुरा सुने कोई शख़्स उन से ख़फ़ा न हो

वो विसाल हो के फ़िराक़ हो तेरी आग महकेगी एक दिन
वो गुलाब बन के खिलेगा क्या जो चराग़ बन के जला न हो

मुझे यूँ लगा कि ख़ामोश ख़ुश्बू के होँठ तितली ने छू लिये
इन्ही ज़र्द पत्तों की ओट में कोई फूल सोया हुआ न हो

इसी एहतियात में मैं रहा, इसी एहतियात में वो रहा
वो कहाँ कहाँ मेरे साथ है किसी और को ये पता न हो

                                              – बशीर बद्र

 Difficult Words 
सर-ए-शाम = लगभग शाम का समय।
विसाल = मिलन, संबंध।
ज़र्द = पीला, फलक।
एहतियात = देखभाल, सावधानी।