This beautiful Poem 'Apne Apne Ram' has written and performed by Kumar Vishwas.


Apne Apne Ram In Hindi

राम सृष्टा भी हैं और सृष्टि भी ! 
राम दृष्टा भी हैं और दृष्टि भी ! 
राम एकांत भी हैं और महफ़िल भी ! 
राम मार्ग भी हैं और मंज़िल भी ! 
राम जीवन भी हैं और मुक्ति भी ! 
राम युद्ध भी हैं और युक्ति भी ! 
राम मनहर भी हैं और मनस्वी भी ! 
राम राजा भी हैं और तपस्वी भी ! 
राम आराध्य भी हैं और आराधना भी ! 
राम साध्य भी हैं और साधना भी ! 
राम मानस भी हैं और गीता भी ! 
राम राम भी हैं और सीता भी ! 
राम धारणा भी हैं और धर्म भी ! 
राम कारण भी हैं और कर्म भी ! 
राम युग भी हैं और पल भी ! 
राम आज भी हैं और कल भी ! 
राम गृहस्थ भी हैं और संत भी ! 
राम आदि भी हैं और अंत भी !

                                         – कुमार विश्वास


Apne Apne Ram


Ram sirishta bhi hain aur sirishti bhi !
Ram dirishta bhi hain aur dirishti bhi !
Ram ekaant bhi hain aur mahafil bhi !
Ram maarg bhi hain aur manzil bhi !
Ram jeevan bhi hain aur mukti bhi !
Ram yuddh bhi hain aur yukti bhi !
Ram manhar bhi hain aur manasvi bhi ! 
Ram raja bhi hain aur tapasvi bhi ! Ram aaraadhy bhi hain aur aaraadhana bhi !
Ram saadhy bhi hain aur saadhana bhi ! 
Ram maanas bhi hain aur geeta bhi !
Ram ram bhi hain aur seeta bhi ! 
Ram dhaarna bhi hain aur dharm bhi !
Ram kaaran bhi hain aur karm bhi !
Ram yug bhi hain aur pal bhi !
Ram aaj bhi hain aur kal bhi !
Ram girihasth bhi hain aur sant bhi ! 
Ram aadi bhi hain aur ant bhi !

                               – Kumar Vishwas