This beautiful nazm 'Ye Jo Bhakt Hain' has written and performed by Rehman Khan


Ye Jo Bhakt Hain

Ye jo bhakt hain
Ye bade ajeeb se log hain

Inhein kya khabar ki
Hai mohabbaton ka urooj kya,
Hai zawaal kya
Hai junoob Kya,
Hai shumaal kya,
Ye bade ajeeb se log hain

Ye jo paaniyon ke hain badeshah,
Inhein Kya khabar ke hai pyas kya,
Ye jo zaat dharm mein hain mubtila,
Inhein kya khabar ke Vikas kya

Ye jo ladte rehte hain rang par,
Inhein kya pata ke hai roop kya,
Ye to chhaon mein hain pale hue ,
Inhein kya khabar ke hai dhoop kya

Ye jo ghar na apna basa sake,
Ye jalate rehte hain jo bastiyaan
Inhein kya khabar ke hai phool kya,
Hain gulon pe kis liye titliyaan

Yeh bataate khud ko hain desh bhakt, Magar inke dil hain bade hi sakht,
Inhein desh Bhakti ka hai ghuroor,
Magar desh Bhakti se hain yeh door
Ye na sarhadon pe jawaan hain
Ye na khetiyon mein Kisaan hain
Inhein nafraton se hi kaam hai,
Yeh siyasaton ke ghulaam hain
Yeh bade ajeeb se log hain
Ye jo Bhakt hain
Ye bade ajeeb se log hain ...

Rehman Khan


Ye Jo Bhakt Hain In Hindi

ये जो भक्त हैं 
ये बड़े अजीब से लोग हैं 

इन्हें क्या खबर की, 
है मोहब्बतों का उरूज क्या,
है ज़वाल क्या 
है जुनूब क्या, 
है शुमाल क्या, 
ये बड़े अजीब से लोग हैं

ये जो पानीयों के हैं बादशाह, 
इन्हें क्या खबर के है प्यास क्या, 
ये जो ज़ात धर्म में हैं मुबतिला, 
इन्हें क्या खबर के विकास क्या

ये जो लड़ते रहते हैं रंग पर, 
इन्हें क्या पता के हैं रूप क्या, 
ये तो छाओं में हैं पले हुए, 
इन्हें क्या खबर के है धुप क्या

ये जो घर न अपना बसा सके, 
ये जलाते रहते हैं जो बस्तियाँ 
इन्हें क्या खबर के है फूल क्या, 
हैं गुलों पे किस लिए तितलियाँ

यह बताते खुद को हैं देश भक्त, 
मगर इनके दिल हैं बड़े ही सख्त, 
इन्हें देश भक्ति का है ग़ुरूर, 
मगर देश भक्ति से हैं यह दूर
ये न सरहदों पे जवान हैं 
ये न खेतियों में किसान हैं 
इन्हें नफरतों से ही काम है, 
ये सियासतों के ग़ुलाम हैं
यह बड़े अजीब से लोग हैं 

ये जो भक्त हैं 
ये बड़े अजीब से लोग हैं ...

रहमान खान