This beautiful Ghazal 'Mohabbat Ki Isi Mitti Ko Hindustaan Kehte Hain' has written by Rahat Indori.


Mohabbat Ki Isi Mitti Ko Hindustaan Kehte Hain


Hum apni jaan ki dushman ko apni jaan kehte hain 
Mohabbat ki isi mitti ko Hindustaan kehte hain 

Jo duniya mein sunayi de use kehte hain khamoshi 
Jo aankhon mein dikhayi de use tufaan kehte hain

                                      – Rahat Indori


मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिन्दुस्तान कहते हैं
(In Hindi)

हम अपनी जान की दुश्मन को अपनी जान कहते हैं 
मोहब्बत की इसी मिट्टी को हिन्दुस्तान कहते हैं

जो दुनिया में सुनाई दे उसे कहते हैं ख़ामोशी
जो आँखों में दिखाई दे उसे तूफान कहते हैं

                                           – राहत इंदौरी