This beautiful Ghazal 'Jawani Mein Kayi Ghazalein' has written by Kumar Vishwas on Stage of KV Musical.

Jawani Mein Kayi Ghazalein


Jawani mein kayi ghazalein adhoori chhut jaati hain
Kayi khwahish to dil hi dil mein, poori chhut jaati hain

Judaai mein to main usse muqmmal baat karta hoon
Mulaqaato mein sab baate, adhoori chhut jaati hain

Puraani dosti ko iss nayi taaqat se mat taulo
Ye sambandho ki turpaayi, sanyantro se mat kholo


Mere lehje ke chheni se gade jo devta kal
Mere lafzo mein marte the wo, ab kehte hai mat bolo

Jo main ya tum samjh le wo ishaara kar liya maine 
Bharosa bas tumhara tha, tumhara kar liya maine

Leher hai, hausla hai, rab hai, himmat hai, duaaye hai 
Kinaara karne waalo se, kinaara kar liya maine

                               – Kumar Vishwas

जवानी में कई ग़ज़लें (In Hindi)


जवानी में कई ग़ज़लें अधूरी छूट जाती हैं 
कई ख़्वाहिश तो दिल ही दिल में, पूरी छूट जाती हैं

जुदाई में तो मैं उससे मुकम्मल बात करता हूँ मुलाकातों में सब बातें, अधूरी छूट जाती हैं

पुरानी दोस्ती को इस नयी ताक़त से मत तौलो
ये सम्बंधो की तुरपाई, संयंत्रो से मत खोलो

मेरे लहजे के छेनी से गढ़े जो देवता कल 
मेरे लफ़्ज़ों में मरते थे वो, अब कहते है मत बोलो

जो मैं या तुम समझ ले वो इशारा कर लिया मैंने 
भरोसा बस तुम्हारा था, तुम्हारा कर लिया मैंने

लहर है, हौसला है, रब है, हिम्मत है, दुआएं है
किनारा करने वालो से, किनारा कर लिया मैंने

                                        – कुमार विश्वास