This beautiful Shayari 'Har Ek Kapde Ka Tukda Maa Ka Aanchal Ho Nahin Sakta' has written and performed by Kumar Vishwas on shahitya Tak TV show.

हर एक कपड़े का टुकड़ा माँ का आंचल हो नहीं सकता

(In Hindi)

हर एक कपड़े का टुकड़ा माँ का आंचल हो नहीं सकता 
जिसे दुनिया को पाना है वो पागल हो नहीं सकता 

जफ़ाओं की कहानी जब तलक उसमें न शामिल हो 
वफ़ाओं का कोई किस्सा मुकम्मल हो नहीं सकता

किसी के दिल की मायूसी जहां से हो के गुजरी है
हमारी सारी चालाकी वहीं पर खो के गुजरी है

तुम्हारी और मेरी रात में बस फर्क इतना है
तुम्हारी सो के गुजरी है, हमारी रो के गुजरी है

कोई पत्थर की मूरत है किसी पत्थर में मूरत है
लो हमने देख ली दुनिया जो इतनी खूबसूरत है

ज़माना अपनी समझे पर मुझे अपनी खबर ये है
तुझे मेरी जरूरत है मुझे तेरी जरूरत है

                                        – कुमार विश्वास

Har Ek Kapde Ka Tukda Maa Ka Aanchal Ho Nahin Sakta

Har ek kapde ka tukda maa ka aanchal ho nahin sakta
Jise duniya ko paana hai wo paagal ho nahin sakta

Zafaaon ki kahaani jab talak usme na shaamil ho 
Wafaaon ka koi kissa mukmmal ho nahin sakta

Kisi ke dil ki maayoosi jahaan se ho ke guzari hai 
Humaari saari chaalaaki Wahi par kho ke guzari hai

Tumhaari aur meri raat mein bas fark itna hai 
Tumhaari so ke guzari hai, hamaari ro ke guzari hai

Koi patthar ki moorat hai, Kisi patthar mein moorat hai, 
Lo humne dekh li dunia, jo itni khoobsoorat hai 

Zamana apni samje par, mujhe apni khabar ye hai, 
Tujhe meri zaroorat hai, mujhe teri zaroorat hai.

                                 – Kumar Vishwas