This beautiful ghazal 'Ye Chirag Be-nazar Hai Ye Sitara Bezuban Hai' has written by Bashir Badr.



 Difficult Words 
मुत्मईन = संतुष्ट।
बेतग़ैय्युर = जो बदले नहीं।
जाविदाँ = अमर।

Ye Chirag Be-nazar Hai Ye Sitara Bezuban Hai


Ye chirag be-nazar hai ye sitara bezuban hai
Abhi tujhse milta julta koi dusra kahan hai

Wahin shakhs jispe apne dil-o-jaan nisaar kar doon
Wo agar khafa nahi hai to jaroor badgumaan hai

Kabhi pa ke tujhko khona kabhi kho ke tujhko paana
Ye janam janam ka rishta tere mere darmiyaan hai

Mere sath chalne wale tujhe kya mila safar me
Wahi dukh bhari zameen hai wahi gham ka aasmaan hai

Main isi gumaan me barso mutmayeen raha hoon
Tera jism betgaiyyur hai mera pyaar zaavidaan hai

Unhi raasto ne jis par kabhi tum the saath mere
Mujhe rok rok pooncha tera humsafar kaha hai

                                      – Bashir Badr



ये चिराग़ बेनज़र है ये सितारा बेज़ुबाँ है
(In Hindi)


ये चिराग़ बेनज़र है ये सितारा बेज़ुबाँ है
अभी तुझसे मिलता जुलता कोई दूसरा कहाँ है

वही शख़्स जिसपे अपने दिल-ओ-जाँ निसार कर दूँ
वो अगर ख़फ़ा नहीं है तो ज़रूर बदगुमाँ है

कभी पा के तुझको खोना कभी खो के तुझको पाना
ये जनम जनम का रिश्ता तेरे मेरे दरमियाँ है

मेरे साथ चलनेवाले तुझे क्या मिला सफ़र में
वही दुख भरी ज़मीं है वही ग़म का आस्माँ है

मैं इसी गुमाँ में बरसों बड़ा मुत्मईन रहा हूँ
तेरा जिस्म बेतग़ैय्युर है मेरा प्यार जाविदाँ  है

उन्हीं रास्तों ने जिन पर कभी तुम थे साथ मेरे
मुझे रोक रोक पूछा तेरा हमसफ़र कहाँ है

                                           – बशीर बद्र