This beautiful ghazal 'Vah Jo Har Aankh Ko Paimaane Nazar Aaye Hai' has written by Waseem Barelvi.



 Difficult Words 
सिम्त-ए-मंज़िल = लक्ष्य की ओर।
मुंहसिर = आश्रित, निर्भर रहना।
सहर = दिन।

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


Vah Jo Har Aankh Ko Paimaane Nazar Aaye Hai


Vah jo har aankh ko paimaane nazar aaye hai 
Mujhse milti hai wahi aankh to bhar aaye hai 

Koi saathi, na koi raah, na simt-e-manzil 
Mere peechhe koi jaise mere ghar aaye hai 

Zindagi phool si naazuk hai, magar khwaabon ki 
Aankh se dekho, to kaanton si nazar aaye hai 

Intizaar ek safar hai ki jo ho khatm, to phir ho jaye, phir se 
Raat aakas se aankhon mein utar aaye hai 

Munhsir ab to isi aas pe jeena hai 'Waseem' 
Raat ke baad suna hai ki sahar aaye hai.


वह जो हर आंख को पैमाने नज़र आये है
(In Hindi)

वह जो हर आंख को पैमाने नज़र आये है
मुझसे मिलती है वही आंख तो भर जाये है

कोई साथी, न कोई राह, न सिम्त-ए-मंज़िल
मेरे पीछे कोई जैसे मेरे घर आये है

ज़िन्दगी फूल सी नाज़ुक है, मगर ख्वाबों की
आंख से देखो, तो कांटों सी नज़र आये है

इंतिज़ार एक सफ़र है कि जो हो खत्म, तो फिर
रात आकाश से आंखों में उतर आये है

मुंहसिर अब तो इसी आस पे जीना है 'वसीम'
रात के बाद सुना है कि सहर आये है।

                                – Waseem Barelvi