This beautiful ghazal 'Muskurati Hui Dhanak Hai Wahi' has written by Bashir Badr.


Muskurati Hui Dhanak Hai Wahi


Muskurati hui dhanak hai wahi
Us badan me chamak damak hai wahi

Phool kumhla gaye ujaalon ke
Saawli shaam me namak hai wahi

Ab bhi chehara charaag lagta hai
Bujha gaya hai par chamak hai wahi

Koi sheesha jaroor toota hai
Gungunati hui khanak hai wahi

Pyaar kis ka mila hai mitti me
Is chameli tale mahak hai wahi

                                      – Bashir Badr


मुस्कुराती हुई धनक है वही
(In Hindi)

मुस्कुराती हुई धनक है वही
उस बदन में चमक दमक है वही

फूल कुम्हला गये उजालों के
साँवली शाम में नमक है वही

अब भी चेहरा चराग़ लगता है
बुझ गया है मगर चमक है वही

कोई शीशा ज़रूर टूटा है
गुनगुनाती हुई खनक है वही

प्यार किस का मिला है मिट्टी में
इस चमेली तले महक है वही

                                           – बशीर बद्र