This beautiful ghazal 'Mil Bhi Jaate Hain To Katra Ke Nikal Jaate hai' has written by Bashir Badr.


Mil Bhi Jaate Hain To Katra Ke Nikal Jaate Hai


Mil bhi jaate hain to katra ke nikal jaate hai
Haaye mausam ki tarah dost badal jaate hai

Hum abhi tak hai girftaar-e-muhabbat yaaro
Thokhre kha ke suna tha ki sambhal jaate hai

Ye kabhi apni jafa par na hue sharminda
Hum samjhte rahe patthar bhi pighal jaate hai

Umra bhar jinki wafaaon pe bhrosha kije
Waqt padne par wahi log badal jate hai

                                      – Bashir Badr


मिल भी जाते हैं तो कतरा के निकल जाते हैं
(In Hindi)

मिल भी जाते हैं तो कतरा के निकल जाते हैं
हाये मौसम की तरह दोस्त बदल जाते हैं

हम अभी तक हैं गिरफ़्तार-ए-मुहब्बत यारो
ठोकरें खा के सुना था कि सम्भल जाते हैं

ये कभी अपनी जफ़ा पर न हुआ शर्मिन्दा
हम समझते रहे पत्थर भी पिघल जाते हैं

उम्र भर जिनकी वफ़ाओं पे भरोसा कीजे
वक़्त पड़ने पे वही लोग बदल जाते हैं

                                           – बशीर बद्र