This beautiful ghazal 'Meri Dhoopo Ke Sar Ko Rida Kaun De' has written by Waseem Barelvi.


 Difficult Words 
रिदा = ओढ़ने की चादर, ढकने की क्रिया।
मज़लूम = अत्याचार से पीड़ित।


Meri Dhoopo Ke Sar Ko Rida Kaun De


Meri dhoopo ke sar ko rida kaun de Neend me yah mujhe phool-sa kaun de? 

Khud chalo to chalo aasara kaun de
Bheed ke daur me raasta kaun de?

Zulm kisne kiya, kaun mazloom tha,
Sabko maaloom hai, phir bata kaun de? 

Yah zamaana aake le musaafir ka hai
Is zamaane ko phir rahnuma kaun de? 

Apne aage kisi ko samajhta nahi
Uske haatho me ik aaina kaun de? 

Dil sabhi ka dukha hai, magar ai 'Waseem' 
Dekhna hai, use baddua kaun de?


मेरी धूपो के सर को रिदा कौन दे? 
(In Hindi)

मेरी धूपो के सर को रिदा कौन दे?
नींद मे यह मुझे फूल-सा कौन दे? 

ख़ुद चलो तो चलो आसरा कौन दे? 
भीड़ के दौर मे रास्ता कौन दे? 

ज़ुल्म किसने किया, कौन मज़लूम था, 
सबको मालूम है, फिर बता कौन दे? 

यह ज़माना अके ले मुसाफ़िर का है 
इस ज़माने को फिर रहनुमा कौन दे?

अपने आगे किसी को समझता नही 
उसके हाथो मे इक आईना कौन दे? 

दिल सभी का दुखा है, मगर ऐ 'वसीम' 
देखना है, उसे बद्दुआ कौन दे?

                              – Waseem Barelvi