Intezaar Poetry Written and performed by Jai Ojha

'Intezaar' a beautiful poetry performed and written by Jai Ojha.


Intezaar Poetry Jai Ojha In Hindi


चलो अच्छा है इस इंतज़ार में
ये जिन्दगी तो गुज़र जाएगी

कविताये जब तुमको छू कर लौट आएगी
कविताये जब तुमको छू कर लौट आएगी
हां तब, तब किसी रोज़ सूकुन से मौत आएगी
हां तब, तब किसी रोज़ सूकुन से मौत आएगी

हम ब्लाक है पर करेंगे तेरी फ़ोटो पर क्लिक बार बार
हम ब्लॉक है पर करेंगे तेरी फ़ोटो पर क्लिक बार बार
ज़रा तुम भी करके देखो न तक़लीफ़ समझ आएगी
कभी तुम भी करके देखो न तक़लीफ़ समझ आएगी

हम आये है तेरे शेहेर में
न जाने कब मुलाक़ात तुमसे हो पायेगी
हम आये है तेरे शेहेर में
न जाने कब मुलाक़ात तुमसे हो पायेगी
कभी तो, कही तो नज़र आओगी तुम मुझे
कभी तो, कही तो नज़र आओगी तुम मुझे


चलो अच्छा है इस इंतज़ार में
ये जिन्दगी तो गुज़र जाएगी
चलो अच्छा है इस इंतज़ार में
ये जिन्दगी तो गुज़र जाएगी

हमारी दास्ताँ-ए-इश्क़ में
तुम भी तो शामिल रही अब तक
आज नहीं तो कल याद तुम्हे भी बहोत आयेगी
आज नहीं तो कल याद तुम्हे भी बहोत आयेगी
तेरी मेरी साँसों ने देखी जो इन्तेहाँ हमारे इश्क़ की
तेरी मेरी साँसों ने देखी जो इन्तेहाँ हमारे इश्क़ की

बता न तेरी साँसें कैसे झूठ बोल पायेगी
बता न ये साँसें कैसे झूठ बोल पायेगी
बस इतना मलाल रहा की
तुमसे ज्यादा वफादार तुम्हारी याद निकली
बस इतना मलाल रहा की
तुमसे ज्यादा वफादार तुम्हारी याद निकली
ये ता उम्र मुझे छोड़ कर नहीं जाएगी
ये ता उम्र मुझे छोड़ कर नहीं जाएगी

एक तेरी फ़ितरत जो भूल जाती है कस्में सारी
एक तेरी फ़ितरत जो भूल जाती है कस्में सारी
और एक मेरी रूह जो मर के भी वाडे सारे निभायेंगी
और एक मेरी रूह जो मर के भी वादे सारे निभायेंगी

ये रंज है की अब मेरा दर्द-ए-दिल कभी मिटेगा नहीं ऐ दोस्त
हां ये रंज है की अब मेरा दर्द-ए-दिल कभी मिटेगा नहीं ऐ दोस्त
ओर ये ग़नीमत भी की अब कोई चोट मेरा दिल नहीं तोड़ पायेगी
और ये ग़नीमत भी की अब कोई चोट मेरा दिल नहीं तोड़ पायेगी


बस मेरे इंतज़ार की इन्तेहाँ क्या है
ये मत पुछ मुझसे
बस मेरे इंतज़ार की इन्तेहाँ क्या है
ये मत पुछ मुझसे
इतना समझ ले की
मरते वक़्त भी आँखें खुली रह जाएगी
बस इतना समझ ले की
मरते वक़्त भी आँखें खुली रह जाएगी

तुम्हारा इंतज़ार बढ़ते बढ़ते एक रोज़
इस हद तक जा पहुंचा
की तुमसे इसका ताल्लुक़ ही न रहा

Intezaar Poetry By Jai Ojha In English


Chalo achha hai iss intezaar mein 
Yeh zindagi toh guzar jaayengi
Kavitaaye jab tumko chhu kar laut aayengi
Kavitaaye jab tumko chhu kar laut aayengi
Haan tab, tab kisi roz sukoon se maut aayengi

Haan tab, tab kisi roz sukoon se maut aayengi
Hum block hai par karenge teri photo par click baar baar
Hum block hai par karenge teri photo par click baar baar
Zara tum bhi karke dekho na taqleef samajh aayengi

Kabhi tum bhi karke dekho na taqleef samajh aayengi
Hum aaye hai tere sheher mein
Na jaane kab mulaqaat tumse ho paayegi
Hum aaye hai tere sheher mein
Na jaane kab mulaqaat tumse ho paayegi
Kabhi toh, kahi toh nazar aaogi tum mujhe

Kabhi toh, kahi toh nazar aaogi tum mujhe
Chalo achha hai iss intezaar mein
Yeh zindagi toh guzar jaayegi


Chalo achha hai iss intezaar mein
Yeh zindagi toh guzar jaayegi
Humaari daastan-e-ishq mein 
Tum bhi toh shaamil rahi ab tak
Aaj nahi toh kal yaad tumhe bhi bahot aayegi
Aaj nahi toh kal yaad tumhe bhi bahot aayegi

Teri meri saanson ne dekhi Jo intehaan humaare ishq ki
Teri meri saanson ne dekhi Jo intehaan humaare ishq ki
Bata na teri saansein kaise jhooth bol paayegi

Bata na yeh saansein kaise jhooth bol paayegi
Bas itna malaal raha ki
Tumse jyada wafadaar tumhaari yaad nikli
Bas itna malaal raha ki
Tumse jyada wafadaar tumhaari yaad nikli
Ye ta umar mujhe chhod kar nahi jaayegi
Ye ta umar mujhe chhod kar nahi jaayegi

Ek teri fitrat Jo bhool jaati hai kasmein saari
Ek teri fitrat Jo bhool jaati hai kasmein saari
Aur ek meri rooh Jo mar ke bhi vaade saare nibhaayegi
Aur ek meri rooh Jo mar ke bhi vaade saare nibhaayegi

Ye ranj hai ki ab mera dard-e-dil kabhi mitega nahi ae dost
Haan ye ranj hai ki ab mera dard-e-dil kabhi mitega nahi ae dost
Aur ye ganimat bhi ki ab koi chot mera dil nahi tod paayegi
Aur ye ganimat bhi ki ab koi chot mera dil nahi tod paayegi

Bas mere intezaar ki intehaan kya hai
Ye mat puchh mujhse
Bas mere intezaar ki intehaan kya hai
Ye mat puchh mujhse
Itna samajh le ki 
Marte waqt bhi aankhein khuli reh jaayengi
Bas itna samajh le ki 
Marte waqt bhi aankhein khuli reh jaayengi

Tumhaara intezaar badhte badhte ek roz 
Iss hadd tak ja pahuncha
Ki tumse iska talluq hi na raha 

Intezaar Poetry Video