This beautiful ghazal 'Chaand Ko Chhat Pe Bula Lunga Ishaara Karke' has written by Rahat Indori.


 Difficult Words 
ख़सारा = नुकसान, हानि।
मुन्तज़िर = प्रतीक्षा करनेवाला।

Chaand Ko Chhat Pe Bula Lunga Ishaara Karke

Teri har baat mohabbat mein gawara karke
Dil ke bazaar mein baithe hain khasaara karke

Aasmaano ki taraf fek diya hai maine Chand mitti ke charaagon ko sitaara karke

Ek chingari nazar aayi thi basti mein use
Wo alag hat gaya aandhi ko ishaara karke

Main wo dariya hoon ke har boond bhanwar hai jiski
Tumne acha hi kiya mujhse kinaara karke

Aate jaate hain kayi rang mere chehre par
Log lete hain maza zikr tumhaara karke

Muntazir hoon ke sitaaron ki zara aankh lage
Chaand ko chhat pe bula lunga ishaara karke

चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके
(In Hindi)

तेरी हर बात मोहब्बत में गवारा करके
दिल के बाज़ार में बैठे हैँ ख़सारा करके

आसमानो की तरफ फेंक दिया है मैंने
चंद मिट्टी के चरागों को सितारा करके

एक चिन्गारी नज़र आई थी बस्ती मेँ उसे
वो अलग हट गया आँधी को इशारा करके

मैं वो दरिया हूँ कि हर बूँद भंवर है जिसकी
तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर 
लोग लेते हैं मज़ा ज़िक्र तुम्हारा करके

मुन्तज़िर हूँ कि सितारों की ज़रा आँख लगे
चाँद को छत पे बुला लूँगा इशारा करके

                                         – Rahat Indori