This beautiful ghazal 'Zindagi Kitne Zakhm Khaaye Hai' has written by Waseem Barelvi.


 Difficult Words 
उम्र-ए-एहसास = Life of emotions (भावनाओं की जिंदगी।)
दश्त-ए-शब = wilderness of love(प्यार का जंगल)

 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


Zindagi Kitne Zakhm Khaaye Hai 


Zindagi kitne zakhm khaaye hai 
Phir bhi kya shay hai, muskuraaye hain

Umr-e-ehsaas rook-see jaaye hai 
Jab kabhi tera khyaal aaye hain   

Ghar to ghar, jahn bhi jal uthte hai
Aag aisi koi lagaaye hain   

Main to gahra kuaan hu aye logo
Kaun mere kareeb aaye hain 

Main tujhe bhool to gaya hota 
Kya karoon, yaad aa hi jaaye hain

Dasht-e-shab mein wo ek cheekh ki goonj 
Kaun sannaate ko rulaaye hain 

Jaane kis ka hai intizaar 'Waseem' Zindagi hai ki guzari jaaye hai


जिन्दगी कितने ज़ख़्म खाये है 
(In Hindi)

ज़िन्दगी कितने ज़ख़्म खाये है 
फिर भी क्या शय है, मुस्कुराये है
 
उम्र-ए-एहसास रूक-सी जाये है 
जब कभी तेरा ख़्याल आये है
 
घर तो घर, जह्न भी जल उठते है 
आग ऐसी कोई लगाये है
 
मै तो गहरा कुआं हू ऐ लोगो 
कौन मेरे करीब आये हैं 

मै तुझे भूल तो गया होता 
क्या करूं, याद आ ही जाये हैं
 
दश्त-ए-शब में वो एक चीख़ की गूंज 
कौन सन्नाटे को रुलाये हैं 

जाने किस का है इन्तिज़ार 'वसीम' 
जिन्दगी है कि गुज़री जाये है

                               – Waseem Barelvi