This beautiful ghazal 'Siskte Aab Mein Kiski Sada Hai' has written by Bashir Badr.



 Difficult Words 
आब = पानी।
नौ-ख़ेज़ = नव उदय, किशोर।


Siskte Aab Mein Kiski Sada Hai


Siskte Aab mein kiski sada hai
Koi dariya ki tah mein ro raha hai

Sawere meri in aankhon ne dekha
Khuda chaaro taraf bikhara hua hai

Sameto aur seene mein chhupa lo
Ye sannaata bahut faila hua hai

Pake genhoon ki khusboo chikhati hai
Badan apna sunehara ho chala hai

Haqeeqat surkh machhali jaanti hai
Samndar kaisa budha devta hai

Humaari shaakh ka nau-khej patta
Hawa ke honth aksar choomta hai

Mujhe un neeli aankhon ne bataaya
Tumhaara naam paani par likha hai

                                    – Bashir Badr


सिसकते आब में किस की सदा है
(In Hindi)

सिसकते आब में किस की सदा है
कोई दरिया की तह में रो रहा है

सवेरे मेरी इन आँखों ने देखा
ख़ुदा चारो तरफ़ बिखरा हुआ है

समेटो और सीने में छुपा लो
ये सन्नाटा बहुत फैला हुआ है

पके गेंहू की ख़ुश्बू चीखती है
बदन अपना सुनेहरा हो चला है

हक़ीक़त सुर्ख़ मछली जानती है
समन्दर कैसा बूढ़ा देवता है

हमारी शाख़ का नौ-ख़ेज़ पत्ता
हवा के होंठ अक्सर चूमता है

मुझे उन नीली आँखों ने बताया
तुम्हारा नाम पानी पर लिखा है

                                           – बशीर बद्र