This beautiful ghazal 'Raat Ik Khwaab Humne Dekha Hai' has written by Bashir Badr.


Raat Ik Khwaab Humne Dekha Hai


Raat ik khwaab humne dekha hai
Phool ki pankhudi ko chuma hai

Dil ki basti purani dilli hai
Jo bhi gujara hai usne loota hai

Hum to kuch der hans bhi lete hai
Dil hamesha udaas rahta hai

Koi matlab jaroor hoga miyaan
Yoon koi kab kisi se milta hai

Tum agar mil bhi jaao to bhi hume
Harsh tak intizaar karna hai

Paisa haath ka mail hai baba
Zindagi chaar din ka mela hai

                                     – Bashir Badr



रात इक ख्वाब हमने देखा है
(In Hindi)

रात इक ख्वाब हमने देखा है
फूल की पंखुड़ी को चूमा है

दिल की बस्ती पुरानी दिल्ली है
जो भी गुज़रा है उसने लूटा है

हम तो कुछ देर हंस भी लेते हैं
दिल हमेशा उदास रहता है

कोई मतलब ज़रूर होगा मियाँ
यूँ कोई कब किसी से मिलता है

तुम अगर मिल भी जाओ तो भी हमें
हश्र तक इंतिज़ार करना है

पैसा हाथों का मैल है बाबा
ज़िंदगी चार दिन का मेला है

                                              – बशीर बद्र