This beautiful ghazal 'Qatra ab Ehitjaaj Kare Bhi , To Kya Mile' has written by Waseem Barelvi.


 Source  
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


Qatra ab Ehitjaaj Kare Bhi , To Kya Mile


Qatra ab ehitjaaj kare bhi, to kya mile
Dariya jo lag rahe the, samandar se ja mile

Har shakhs daudta hai yahaan bheed ki taraf
Phir yah bhi chaahta hai, use raasta mile

Is aarzoo ne aur tamaasha bana diya
Jo bhi mile, humaari taraf dekhta mile

Duniya ko doosro ki nazar se na dekhiye
Chehare na padh sake, to kitaabon me kya mile

Rishton ko baar-baar samajhne ki‌ aarzoo
Kahati‌ hai, phir mile, to koi bewafa mile

Is daur-e-munsifi mein zaroori nahi 'Waseem'
Jis shakhs ki khata ho, usi ko saza mile


क़तरा अब एहितजाज करे भी , तो क्या मिले
(In Hindi)


क़तरा अब एहितजाज करे भी, तो क्या मिले
दरिया जो लग रहे थे, समन्दर से जा मिले

हर शख़्स दौड़ता है यहां भीड़ की तरफ
फिर यह भी चाहता है, उसे रास्ता मिले

इस आर्ज़ू ने और तमाशा बना दिया
जो भी मिले, हमारी तरफ देखता मिले

दुनिया को दूसरो की नज़र से न देखिये
चेहरे न पढ़ सके, तो किताबों मे क्या मिले

रिश्तों को बार-बार समझने की‌ आर्ज़ू
कहती‌ है, फिर मिले, तो कोई बेवफा मिले

इस दौर-ए-मुंसिफी में ज़रूरी नही‌ 'वसीम'
जिस शख़्स की ख़ता हो, उसी को सज़ा मिले।

                               – Waseem Barelvi