This beautiful ghazal 'Na Jee Bhar Ke Dekha Na Kuch Baat Ki' has written by Bashir Badr.


 Difficult Word 
चश्म-ए-पुर-आब = आंसू भरी आंखें।


Na Jee Bhar Ke Dekha Na Kuch Baat Ki


Na jee bhar ke dekha na kuch baat ki
Badi aarzoo thi mulaakaat ki

Kai saal se kuch khabar hi nahi
Kahan din gujara kahan raat ki

Ujaalon ki pariyaan nahaane lagi
Nadi gungunaai khayaalaat ki

Main chup tha to chalti hawa rook gayi
Juban sab samjhte hai jazbaat ki

Sitaaron ko shaayad khabar hi nahi
Musafir ne jaane kahan raat ki

Muqaddar mere chashm-e-pur-aab ka
Barsti hui raat barsaat ki

                                      – Bashir Badr


न जी भर के देखा न कुछ बात की
(In Hindi)

न जी भर के देखा न कुछ बात की
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की

कई साल से कुछ ख़बर ही नहीं
कहाँ दिन गुज़ारा कहाँ रात की

उजालों की परियाँ नहाने लगीं
नदी गुनगुनाई ख़यालात की

मैं चुप था तो चलती हवा रुक गई
ज़ुबाँ सब समझते हैं जज़्बात की

सितारों को शायद ख़बर ही नहीं
मुसाफ़िर ने जाने कहाँ रात की

मुक़द्दर मेरे चश्म-ए-पुर-आब का
बरसती हुई रात बरसात की।

                                           – बशीर बद्र