This beautiful ghazal 'Mom Ki Zindagi Ghula Karna' has written by Bashir Badr.


 Difficult Words 
तज़करा = Discussion( चर्चा, ज़िक्र।)
रिवायत = Narrative( सुनी सुनाई बात कहना।)
शह-सवार = Rider, Horse rider( सवार, घोड़ा सवार)


Mom Ki Zindagi Ghula Karna


Mom ki zindagi ghula karna
Kuch kisi se na tazkra karna

Mera bachpan tha aaine jaisa
Har khilone ka munh taka karna

Chehara chehara meri kitaabe hai
Padhne waale mujhe padha karna

Ye riwaayat bahut puraani hai
Neend mein ret par chala karna

Raaste mein kayi khandahar honge
Shah-sawaaro wahan ruka karna

Jab bahut hans chuko to chehare ko
Aansooyon se bhi dho liya karna

Phool shaakhon ke hon ki aankhon ke
Raaste raaste chuna karna.


मोम की ज़िन्दगी घुला करना
(In Hindi)

मोम की ज़िन्दगी घुला करना
कुछ किसी से न तज़करा करना

मेरा बचपन था आईने जैसा
हर खिलौने का मुँह तका करना

चेहरा चेहरा मेरी किताबें हैं
पढ़ने वालो मुझे पढ़ा करना

ये रिवायत बहुत पुरानी है
नींद में रेत पर चला करना

रास्ते में कई खंडहर होंगे
शह-सवारो वहाँ रुका करना

जब बहुत हँस चुको तो चेहरे को
आँसुओं से भी धो लिया करना

फूल शाख़ों के हों कि आँखों के
रास्ते रास्ते चुना करना।

                                       – Bashir badr