This beautiful ghazal 'Khandani Rishton Mein Aksar Rakaabat Hai Bahut' has written by Bashir Badr.


 Difficult Words 
रक़ाबत – जलन, दुश्मनी।
हुस्न-ए-क़िफ़ायत – पर्याप्त सुंदरता।
गुरबतों =  विदेश प्रवास।
शिद्दत – कष्ट।


Khandani Rishton Mein Aksar Rakaabat Hai Bahut


Khandani rishton mein aksar rakaabat hai bahut
Ghar se nikalo to ye duniya khoobsurat hai bahut

Apne kaalez mein bahut magroor jo mashahoor hai
Dil mira kahta hai us ladki mein chaahat hai bahut

Unke chehare chaand-taaron ki tarah roshan hue
Jin gareebon ke yahan husn-e-kifaayat hai bahut

Humse ho nahi sakti duniya ki duniyadariyan
Ishq ki deewar ke saaye mein raahat hai bahut

Dhoop ki chaadar mire suraj se kahna bhej de
Gurbaton ka daur hai jaadon ki shiddat hai bahut

Un andheron mein jahan sahami hui thi ye zameen
Raat se tanha lada, jugnoo mein himmat hai bahut

                                    – Bashir Badr


ख़ानदानी रिश्तों में अक़्सर रक़ाबत है बहुत
(In Hindi)

ख़ानदानी रिश्तों में अक़्सर रक़ाबत है बहुत
घर से निकलो तो ये दुनिया खूबसूरत है बहुत

अपने कालेज में बहुत मग़रूर जो मशहूर है
दिल मिरा कहता है उस लड़की में चाहत है बहुत

उनके चेहरे चाँद-तारों की तरह रोशन हुए
जिन ग़रीबों के यहाँ हुस्न-ए-क़िफ़ायत है बहुत

हमसे हो नहीं सकती दुनिया की दुनियादारियाँ
इश्क़ की दीवार के साये में राहत है बहुत

धूप की चादर मिरे सूरज से कहना भेज दे
गुरबतों का दौर है जाड़ों की शिद्दत है बहुत

उन अँधेरों में जहाँ सहमी हुई थी ये ज़मी
रात से तन्हां लड़ा, जुगनू में हिम्मत है बहुत

                                           – बशीर बद्र