This beautiful ghazal 'Jeete Hai, Kirdaar Nahi Hai' has written by Waseem Barelvi.



 Source 
लेखक – वसीम बरेलवी
किताब – मेरा क्या
प्रकाशन –  परम्परा प्रकाशन, नई दिल्ली
संस्करण – 2007


Jeete Hai, Kirdaar Nahi Hai


Jeete hai, kirdaar nahi hai
Naav to hai, patwaar nahi hai

Mera gham majhdaar nahi hai  
Gham hai, koi us paar nahi hai 

Hona-paana mai kya jaanu
Pyaar hai, kaarobaar nahi hai 

Sajda wahaan ik sar ki varjish  
Sar pe jahaan talvaar nahi hai 

Zahnon me deevaar na ho to 
Milana koee dushvaar nahi hai 

Main bhi kuch aisa door nahi hoon
Tu bhi samandar-paar nahi hai 

Pahle tolo, phir kuch bolo 
Lafz koi bekaar nahi hai 

Mai sabse jhuk-kar milta hoon 
Meri kahi bhi haar nahi hai.

                              – Waseem Barelvi


जीते है, किरदार नही है 
(In Hindi)

जीते है, किरदार नही है 
नाव तो है, पतवार नही है 

मेरा गम मझदार नही है 
गम है, कोई उस पार नही है 

खोना-पाना मै क्या जानू 
प्यार है, कारोबार नही है 

सजदा वहां इक सर की वर्जिश 
सर पे जहां तलवार नही है 

ज़ह्नों मे दीवार न हो तो 
मिलना कोई दुश्वार नही है 

मै भी कुछ ऐसा दूर नही हूं 
तू भी समन्दर-पार नही है 

पहले तोलो, फिर कुछ बोलो 
लफ़्ज़ कोई बेकार नही है 

मै सबसे झुककर मिलता हूं 
मेरी कही भी हार नही है।

                                  – वसीम बरेलवी