This beautiful ghazal 'Jahan Ped Par Chaar Daane Lage' has written by Bashir Badr.


Jahan Ped Par Chaar Daane Lage


Jahan ped par chaar daane lage
Hazaaron taraf se nishaane lage

Hui shaam yaadon ke ik gaanv mein
Parinde udaasi ke aane lage

Ghadi do ghadi mujhko palkon pe rakh
Yahan aate aate zamaane lage

Kabhi bastiyaan dil ki yoon bhi basi
Dukaane khuli, kaarkhaane lage

Wahi zard patton ka kaalin hai
Gulon ke jahan shaamiyaane lage

Padhaai likhaai ka mausam kahan
Kitaabon mein khat aane jaane lage

                                      – Bashir Badr


जहाँ पेड़ पर चार दाने लगे
(In Hindi)

जहाँ पेड़ पर चार दाने लगे
हज़ारों तरफ़ से निशाने लगे

हुई शाम यादों के इक गाँव में
परिंदे उदासी के आने लगे

घड़ी दो घड़ी मुझको पलकों पे रख
यहाँ आते आते ज़माने लगे

कभी बस्तियाँ दिल की यूँ भी बसीं
दुकानें खुलीं, कारख़ाने लगे

वहीं ज़र्द पत्तों का कालीन है
गुलों के जहाँ शामियाने लगे

पढाई लिखाई का मौसम कहाँ
किताबों में ख़त आने-जाने लगे

                                       – बशीर बद्र