This beautiful ghazal 'Jaagne Ki Bhi Jagaane Ki Bhi Aadat Ho Jaaye' has written by Rahat Indori.


 Difficult Word 
ख़यानत = अमानत रखी वस्तु को चुरा लेना।

Jaagne Ki Bhi Jagaane Ki Bhi Aadat Ho Jaaye 


Jaagne ki bhi jagaane ki bhi aadat ho jaaye 
Kaash tujhko kisi shayar se mohabbat ho jaaye 

Door hum kitne dino se hain kabhi gaur kiya 
Phir na kehna jo amaanat mein khayaanat ho jaaye 

Jugnuon tumko naye chaand ugaane honge 
Isse pehle ke andheron ki huqumat ho jaaye

Ukhde padte hain meri kabr ke patthar har din 
Tum jo aa jao kisi din to marammat ho jaaye

                                   – Rahat Indori


जागने की भी जगाने की भी आदत हो जाए
(In Hindi)

जागने की भी जगाने की भी आदत हो जाए
काश तुझे भी किसी शायर से मोहब्बत हो जाए

दूर हम कितने दिनों से हैं कभी गौर किया है
फिर न कहना अमानत ख़यानत  हो जाये

जुगनुओं तुमको नए चांद उगाने होंगे
इससे पहले की अंधेरो की हुकूमत हो जाए

उखड़े पड़ते हैं मेरी कब्र के पत्थर हर दिन
तुम जो आ जाओ किसी दिन तो मरम्मत हो जाये

                                         – राहत इंदौरी