This beautiful ghazal 'Guroor us pe bahut sajta hai magar keh do' has written by Bashir Badr.


 Difficult Words 
अबरूओं = भौंहें।
ख़म = घुंघराले बाल।
मोहतरम = महोदय, पूज्य, श्रद्धेय, प्रतिष्ठित, महानुभाव।
गुरूर = घमंड।
तहरीर = लिखा हुआ।


Guroor us pe bahut sajta hai magar keh do


Sanwaar nok, palak, abruon mein kham kar de
Gire pade hue lafzon ko mohtram kar de

Guroor us pe bahut sajta hai magar keh do
Isi mein us ka bhala hai guroor kam kar de

Yahan libaas ki keemat hai admi ki nahin
Mujhe gilaas bade de sharab kam kar de

Chamkne waali hai tahreer meri kismat ki
Koi chirag ki lau ko zara sa kam kar de

Kisi ne choom ke aankhon ko ye dua di thi
Zameen teri khuda motiyon se nam kar de.

                                     – Bashir Badr


ग़ुरूर उस पे बहुत सजता है मगर कह दो
(In Hindi)

सँवार नोक, पलक, अबरूओं में ख़म कर दे
गिरे पड़े हुए लफ़ज़ों को मोहतरम कर दे

ग़ुरूर उस पे बहुत सजता है मगर कह दो
इसी में उसका भला है ग़ुरूर कम कर दे

यहाँ लिबास, की क़मीत है आदमी की नहीं
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे

चमकने वाली है तहरीर मेरी क़िस्मत की
कोई चिराग़ की लौ को ज़रा सा कम कर दे

किसी ने चूम के आँखों को ये दुआ दी थी
ज़मीन तेरी ख़ुदा मोतियों से नम कर दे।

                                         – बशीर बद्र